Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2018 · 1 min read

दूरियां कुछ भी नही

ग़ज़ल-
तेरे मेरे बीच में यह,दूरियां कुछ भी नहीं,
चाह हो मिलने की तो यह, फासला कुछ भी नहीं।
इन निग़ाहों में बसी है, सिर्फ तेरी ही सुरत,
दूर हो तुम मुझसे फिर यह,आसरा कुछ भी नही।
पीर सी उठती युं दिल में, दर्द बेकाबू सा है,
दर्दे दिल की तुमसे बढ़कर, अब दवा कुछ भी नहीं।
कट नही सकती ज़रा भी, जिंदगी तेरे बिना,
बीते हर पल संग तेरे ,बढ़कर दया कुछ भी नहीं।
जिंदगी तेरी अमानत, इसपे हक है आपका,
हाथ में हो हाथ तेरा, फिर दुआ कुछ भी नहीं।
By:Dr Swati Gupta

2 Likes · 1 Comment · 220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
कृष्णकांत गुर्जर
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
राम से जी जोड़ दे
राम से जी जोड़ दे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
काल का स्वरूप🙏
काल का स्वरूप🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भ्रम
भ्रम
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
******प्यारी मुलाक़ात*****
******प्यारी मुलाक़ात*****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
HEBA
“इसे शिष्टाचार कहते हैं”
“इसे शिष्टाचार कहते हैं”
DrLakshman Jha Parimal
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"पतझड़"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्याग्रह और उग्रता
सत्याग्रह और उग्रता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
■ आज की सलाह। धूर्तों के लिए।।
*प्रणय प्रभात*
हृदय वीणा हो गया।
हृदय वीणा हो गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आंखों में
आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
अध्यात्म
अध्यात्म
DR ARUN KUMAR SHASTRI
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
स्वार्थ
स्वार्थ
Neeraj Agarwal
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
निजता के इस दौर में,
निजता के इस दौर में,
sushil sarna
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Swami Ganganiya
बुंदेली मुकरियां
बुंदेली मुकरियां
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...