Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Aug 2016 · 1 min read

दुर्मिल सवैया :– चित चोर बड़ा बृजभान सखी – भाग -1 !!

दुर्मिल सवैया :–
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! भाग -1
मात्रा-भार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 1 !!
सुन भानु मुडेर चढ़ा अब तो
नव ज्योति उठी पहचान सखी !

सब काग-विहाग उड़े उर के
मन गावत है प्रिय गान सखी !

हिय को हिलकोर गया अब जो
लगता मुझको प्रतिमान सखी !

नित रोज़ सरोज खिले मन में
इक आनद सा अनजान सखी !!

!! 2 !!
सुधि मोहि नहीँ अपने तन की
कुछ आवत ना अब ध्यान सखी !

भयभीत बड़ी विपदा उमड़ी
यह रोग लगे बलवान सखी !

मन मार लियो तन थाम लियो
चित चंचल चाह उड़ान सखी !

प्रभु नाम जपूँ शुभ काम करुं
नहीँ भात मुही जलपान सखी !

!! 3 !!
मनमोहन सा मनमोहक सा
उर में बसगौ मेहमान सखी !

सब श्याम लगै सब श्याम दिखै
सपने करूँ श्याम बखान सखी !

सुन राग मुराद भरी अब तो
कर कौनु उपाय निदान सखी !

कुछ औषधि दे नहिं वैद बुला
जिय मा सुलगै अब प्राण सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
2 Comments · 628 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"क्या बताएँ तुम्हें"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"बचपन"
Tanveer Chouhan
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
आपका समाज जितना ज्यादा होगा!
Suraj kushwaha
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
8. टूटा आईना
8. टूटा आईना
Rajeev Dutta
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
World Blood Donar's Day
World Blood Donar's Day
Tushar Jagawat
सुख मिलता है अपनेपन से, भरे हुए परिवार में (गीत )
सुख मिलता है अपनेपन से, भरे हुए परिवार में (गीत )
Ravi Prakash
वो ठहरे गणित के विद्यार्थी
वो ठहरे गणित के विद्यार्थी
Ranjeet kumar patre
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
देश हमरा  श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
देश हमरा श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
DrLakshman Jha Parimal
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
हर मौहब्बत का एहसास तुझसे है।
Phool gufran
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"आज मैं काम पे नई आएगी। खाने-पीने का ही नई झाड़ू-पोंछे, बर्तन
*प्रणय प्रभात*
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...