Aug 30, 2016 · 1 min read

दुर्मिल सवैया :– चित चोर बड़ा बृजभान सखी – भाग -1 !!

दुर्मिल सवैया :–
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! भाग -1
मात्रा-भार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 1 !!
सुन भानु मुडेर चढ़ा अब तो
नव ज्योति उठी पहचान सखी !

सब काग-विहाग उड़े उर के
मन गावत है प्रिय गान सखी !

हिय को हिलकोर गया अब जो
लगता मुझको प्रतिमान सखी !

नित रोज़ सरोज खिले मन में
इक आनद सा अनजान सखी !!

!! 2 !!
सुधि मोहि नहीँ अपने तन की
कुछ आवत ना अब ध्यान सखी !

भयभीत बड़ी विपदा उमड़ी
यह रोग लगे बलवान सखी !

मन मार लियो तन थाम लियो
चित चंचल चाह उड़ान सखी !

प्रभु नाम जपूँ शुभ काम करुं
नहीँ भात मुही जलपान सखी !

!! 3 !!
मनमोहन सा मनमोहक सा
उर में बसगौ मेहमान सखी !

सब श्याम लगै सब श्याम दिखै
सपने करूँ श्याम बखान सखी !

सुन राग मुराद भरी अब तो
कर कौनु उपाय निदान सखी !

कुछ औषधि दे नहिं वैद बुला
जिय मा सुलगै अब प्राण सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

2 Comments · 385 Views
You may also like:
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुआ आई
राजेश 'ललित'
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कविराज
Buddha Prakash
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
माँ गंगा
Anamika Singh
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
परिंदों सा।
Taj Mohammad
मुक्तक
Ranjeet Kumar
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
सौगंध
Shriyansh Gupta
कलयुग की पहचान
Ram Krishan Rastogi
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...