Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

*दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)*

दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो (गीत)
—————–
दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो
(1)
स्वस्थ सभी के तन हों, सबके मन में हों आशाएँ
नहीं सताएँ कभी किसी को, रोगों की बाधाएँ
विजय प्राप्त हो रोगों पर, ऐसा सब जग को कर दो
(2)
सदा पड़ोसी मुस्काएँ, अधरों पर बसी हँसी हो
किसी भँवर में नहीं किसी की, नौका कहीं फँसी हो
दृष्टि जहाँ तक जाए सबके, घर प्रसन्नता भर दो
(3)
सबके घर में भरा अन्न हो, भूखा कहीं न पाएँ
सबके चलते रोजगार हों, सब भरपूर कमाएँ
सेवा करने के सब की, सबको सौ-सौ अवसर दो
दुनिया में हों सभी निरोगी, हे प्रभु ऐसा वर दो
————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 999 7615451

Language: Hindi
251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
■ वक़्त का हर सबक़ एक सौगात।👍
■ वक़्त का हर सबक़ एक सौगात।👍
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
रमेशराज के दो मुक्तक
रमेशराज के दो मुक्तक
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-376💐
💐प्रेम कौतुक-376💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूल खिलते जा रहे
फूल खिलते जा रहे
surenderpal vaidya
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
दोस्त कहता है मेरा खुद को तो
Seema gupta,Alwar
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
Even If I Ever Died
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
"स्केल पट्टी"
Dr. Kishan tandon kranti
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2553.पूर्णिका
2553.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?
The_dk_poetry
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
शे'र
शे'र
Anis Shah
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
मैं उसको जब पीने लगता मेरे गम वो पी जाती है
कवि दीपक बवेजा
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
खुद ही खुद से इश्क कर, खुद ही खुद को जान।
विमला महरिया मौज
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...