Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,

दुनिया में तरह -तरह के लोग मिलेंगे,
जब आप कुछ अच्छा करेंगे उनको अच्छा नहीं लगेगा,
अगर आपसे कोई भूल हो गई तो झट से गलत ठहरा देंगे,
हे ईश्वर ऐसे लोगों से बचाए रखना।

अनामिका तिवारी “अन्नपूर्णा”✍️✍️✍️✍️

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वार्थी आदमी
स्वार्थी आदमी
अनिल "आदर्श"
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
गुलशन की पहचान गुलज़ार से होती है,
Rajesh Kumar Arjun
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
काजल
काजल
SHAMA PARVEEN
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
नींद आज नाराज हो गई,
नींद आज नाराज हो गई,
Vindhya Prakash Mishra
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
Jogendar singh
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
जो गुजर रही हैं दिल पर मेरे उसे जुबान पर ला कर क्या करू
Rituraj shivem verma
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
हर क्षण का
हर क्षण का
Dr fauzia Naseem shad
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
1B_ वक्त की ही बात है
1B_ वक्त की ही बात है
Kshma Urmila
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
निहारा
निहारा
Dr. Mulla Adam Ali
चारु
चारु
NEW UPDATE
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
छुट्टी का इतवार नहीं है (गीत)
Ravi Prakash
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
उतर गए निगाह से वे लोग भी पुराने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
!..............!
!..............!
शेखर सिंह
तुम
तुम
Tarkeshwari 'sudhi'
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
जय जगन्नाथ भगवान
जय जगन्नाथ भगवान
Neeraj Agarwal
■ एक शाश्वत सच
■ एक शाश्वत सच
*प्रणय प्रभात*
Loading...