Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2019 · 1 min read

दुनिया भर में कही कैंडल मार्च नही होता दिख रहा, क्या वजह है..? Oh! मरने वाले मुसलमान थे…../

मारने वाला शैतान था इसलिए ।।
दिल मे उसके न ईमान था इसलिए ।।
पूरी दुनिया ने अफ़सोस गम कुछ न की,
मरने वाला मुसलमान था इसलिए ।।
✍️ शाह आलम हिंदुस्तानी

दुनिया भर में कही कैंडल मार्च नही होता दिख रहा, क्या वजह है..?
Oh! मरने वाले मुसलमान थे…../

Language: Hindi
266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*प्रणय प्रभात*
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
3581.💐 *पूर्णिका* 💐
3581.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
Keep this in your mind:
Keep this in your mind:
पूर्वार्थ
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
देह से देह का मिलन दो को एक नहीं बनाता है
Pramila sultan
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
मन की परतों में छुपे ,
मन की परतों में छुपे ,
sushil sarna
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
कविता 10 🌸माँ की छवि 🌸
Mahima shukla
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
रामपुर में जनसंघ
रामपुर में जनसंघ
Ravi Prakash
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
कफन
कफन
Kanchan Khanna
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
gurudeenverma198
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
औरत अपनी दामन का दाग मिटाते मिटाते ख़ुद मिट जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चांद पर पहुंचे बधाई,ये बताओ तो।
चांद पर पहुंचे बधाई,ये बताओ तो।
सत्य कुमार प्रेमी
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
मनुष्य भी जब ग्रहों का फेर समझ कर
Paras Nath Jha
"खुश रहिए"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...