Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

– दुनिया जिसकी है दीवानी वो सिर्फ तेरा दीवाना है –

दुनिया जिसकी है दीवानी वो सिर्फ तेरा दीवाना है –
दुनिया जिसकी है दीवानी वो तेरा दीवाना है,
दुनिया जिसके लिए है पागल वो तेरे लिए पागल है,
दुनिया जिसको अपना माने उसने तुझे अपना माना है,
दुनिया जिसके लिए जिए वो तेरे लिए ही जीता है,
दुनिया में जिसका नाम है वो तेरे नाम को तरसे है,
दुनिया जिसके लिए बदनाम होना चाहे,
वो तेरे लिए बदनाम है,
दुनिया जिसके लिए तरसे वो तेरे लिए तरसता है,
दुनिया जिसकी है दीवानी वो सिर्फ तेरा दीवाना है,

✍️✍️ भरत गहलोत
जालोर राजस्थान,
संपर्क सूत्र -7742016184 –

Language: Hindi
88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
खुशकिस्मत है कि तू उस परमात्मा की कृति है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
वो एक संगीत प्रेमी बन गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
सोनपुर के पनिया में का अईसन बाऽ हो - का
जय लगन कुमार हैप्पी
ऐ मेरी जिंदगी
ऐ मेरी जिंदगी
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
फूल
फूल
Punam Pande
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
■ कब तक, क्या-क्या बदलोगे...?
*प्रणय प्रभात*
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
*जीने न दें दो नीले नयन*
*जीने न दें दो नीले नयन*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
Ranjeet kumar patre
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं तो महज जीवन हूँ
मैं तो महज जीवन हूँ
VINOD CHAUHAN
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
🪔🪔दीपमालिका सजाओ तुम।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
गिरिधारी छंद विधान (सउदाहरण )
Subhash Singhai
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
याद आयेगा हमें .....ग़ज़ल
sushil sarna
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
गुरु पूर्णिमा पर ....!!!
गुरु पूर्णिमा पर ....!!!
Kanchan Khanna
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
पिता' शब्द है जीवन दर्शन,माँ जीवन का सार,
Rituraj shivem verma
*ठेला (बाल कविता)*
*ठेला (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वर्तमान लोकतंत्र
वर्तमान लोकतंत्र
Shyam Sundar Subramanian
#शीर्षक:-बहकाना
#शीर्षक:-बहकाना
Pratibha Pandey
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
*
*"नरसिंह अवतार"*
Shashi kala vyas
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...