Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-55💐

दुनिया की सैर करिये अपने ख़्यालों से,
समझिए, इन्तजार करिये, एतिबार करिये।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
surenderpal vaidya
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सदा प्रसन्न रहें जीवन में, ईश्वर का हो साथ।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
शिष्टाचार के दीवारों को जब लांघने की चेष्टा करते हैं ..तो दू
DrLakshman Jha Parimal
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
जब कभी मन हारकर के,या व्यथित हो टूट जाए
Yogini kajol Pathak
आखिर क्यों
आखिर क्यों
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
"औषधि"
Dr. Kishan tandon kranti
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आहत बता गयी जमीर
आहत बता गयी जमीर
भरत कुमार सोलंकी
विरह
विरह
Neelam Sharma
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
ख्वाब सस्ते में निपट जाते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
मतदान 93 सीटों पर हो रहा है और बिकाऊ मीडिया एक जगह झुंड बना
*Author प्रणय प्रभात*
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
जीवन की परिभाषा क्या ?
जीवन की परिभाषा क्या ?
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल है जो तुम्हारा
ये दिल है जो तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
अल्फाज़.......दिल के
अल्फाज़.......दिल के
Neeraj Agarwal
*माँ : 7 दोहे*
*माँ : 7 दोहे*
Ravi Prakash
लौटेगी ना फिर कभी,
लौटेगी ना फिर कभी,
sushil sarna
Loading...