Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध

खुद ही मिटते जा रहे
बुद्धत्व को मिटाने वाले!
आज उन्हें आशा से
देख रहे हैं जमाने वाले!
भारत से तो बुद्ध को
हटा दिया गया लेकिन!
वह कभी क्या हमारे
दिलों से हैं जाने वाले!
#Buddha #Buddhism
#Ahimsa #NoWar #Uno
#Peace #प्रतिक्रांति #अशोक
#Dhamma #बौद्ध #धम्म
#Counter_Revolution

Language: Hindi
335 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चुका न पाएगा कभी,
चुका न पाएगा कभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
VEDANTA PATEL
3373⚘ *पूर्णिका* ⚘
3373⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बाबुल
बाबुल
Neeraj Agarwal
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
राहें खुद हमसे सवाल करती हैं,
Sunil Maheshwari
मां!क्या यह जीवन है?
मां!क्या यह जीवन है?
Mohan Pandey
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी मां।
मेरी मां।
Taj Mohammad
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
हिय जुराने वाली मिताई पाना सुख का सागर पा जाना है!
Dr MusafiR BaithA
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
आज का रावण
आज का रावण
Sanjay ' शून्य'
*श्रम साधक *
*श्रम साधक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
काव्य
काव्य
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
Loading...