Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

दुनियाँ की भीड़ में।

दुनियाँ की भीड़ में वह जाने कहां खो गया है।
कोशिश तो बहुत की पर वह ना मिल सका है।।

जाने कैसे रहेगें हम बिना उसके यूं ज़िंदगी में।
फरिश्ते सा आकर फिर जो ओझल हो गया है।।

याद आता है बहुत उसके साथ गुजारा वक्त।
हर पल मेरी जिंदगी का बोझिल सा हो गया है।।

कोशिश तो की जीने की पर जिया जाता नहीं।
सांस लेना भी अब हमें मुश्किल सा हो गया है।।

रोते रोते नजरें भी थक गई है उसकी याद में।
मोती जैसा हर अश्क आंखो से निकल रहा है।।

उसके आने से जिंदगी जन्नत सी हो गईं थी।
मकसूदे मंजिल पर आकर पैर फिसल गया है।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
जीवन दर्शन मेरी नज़र से. .
Satya Prakash Sharma
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
दुनिया को ऐंसी कलम चाहिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
मेरा जीवन बसर नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
आँखें बतलातीं सदा ,मन की सच्ची बात ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
बस नेक इंसान का नाम
बस नेक इंसान का नाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
तारीफ किसकी करूं किसको बुरा कह दूं
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
जिंदगी को मेरी नई जिंदगी दी है तुमने
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बीते हुए दिनो का भुला न देना
बीते हुए दिनो का भुला न देना
Ram Krishan Rastogi
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
Shyam Sundar Subramanian
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
बदलती हवाओं का स्पर्श पाकर कहीं विकराल ना हो जाए।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं
मैं
Seema gupta,Alwar
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
"समय"
Dr. Kishan tandon kranti
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
फूल अब शबनम चाहते है।
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
Loading...