Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2016 · 1 min read

दुःखो की मारी औरत(कविता)

दुखो की मारी औरत/मंदीप

कवि को बेसहारा औरत मिलती है और क्या बात होती है—–

रे बेसहारा औरत तू क्यों रहो रही है,
तेरे आँसु क्यों नही रुक रहे,ऐसी क्या बात हुई है।

क्यों तेरा रूप फीका हुआ है,क्यों हो रही आँखे लाल,
एक बार बोल तू क्या है तेरे दिल में मलाल।

कुछ तो बुरा हुआ है ऐसे नही हुई आँखे तेरी लाल।
सुबक सुबक कर ऐसे नही हुआ तेरे यो का बुरा हाल।

साफ साफ दिख रहा तू किस्मत की है मरी,
क्यों हाल ऐसा तेरा हुआ लगता तू अपने आप से है हारी।

हे कविराज ….

अब दिन रात लगे एक समान,
कैसे करूँ मै मेरी कहानी का बखान।

मै बेसहारा किस्मत की मरी हूँ,
मै भगवान के हाथो हारी हूँ।

मै पूजा करती उसकी दिन रात उसने मेरे साथ क्या किया,
बरी जवानी में उस ने मेरा सब कुछ छिन लिया।

भुखी रहती अच्छा जीवन साथी पाने के लिए,
अब मिल गया तूने उस को अब मुझ से छिन लिया।

अब ना जीने की इच्छा रही मुझे भी बुला ले,
अगर तेरे मन में कुछ बाकि है तू मुझे उठा ले।

अब बिता समय मै सब बुल गई,
मेरी सारी ख़ुशी भगवान तेरे हाथो झूल गई।

सुनी मांग देख भगवान हो गई तेरे मन में शान्ति,
आज के बात मै तुम हो ये कभी नही मानती।

जाते जाते दो फूल मेरी जोली में डाल दीये,
अब बस दुआ है उन का जीवन सुदार दीये।

मंदीपसाई

2 Comments · 767 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
दूसरों को खरी-खोटी सुनाने
Dr.Rashmi Mishra
तेरा ही नाम ले लेकर रोज़ इबादत करती हूँ,
तेरा ही नाम ले लेकर रोज़ इबादत करती हूँ,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
"उई मां"
*Author प्रणय प्रभात*
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सिंदूर..
सिंदूर..
Ranjeet kumar patre
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
दुष्यन्त 'बाबा'
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
अक्लमंद --एक व्यंग्य
अक्लमंद --एक व्यंग्य
Surinder blackpen
=*तुम अन्न-दाता हो*=
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अनेक को दिया उजाड़
अनेक को दिया उजाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
होता है तेरी सोच का चेहरा भी आईना
Dr fauzia Naseem shad
तहरीर लिख दूँ।
तहरीर लिख दूँ।
Neelam Sharma
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
परिंदे अपने बच्चों को, मगर उड़ना सिखाते हैं( हिंदी गजल)
परिंदे अपने बच्चों को, मगर उड़ना सिखाते हैं( हिंदी गजल)
Ravi Prakash
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
यह आखिरी है दफा
यह आखिरी है दफा
gurudeenverma198
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
Loading...