Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2018 · 1 min read

दीवारों से बात कर लेते है

दीवारों से बात कर लेते हैं

जब तन्हा होते है तो दीवारों से बात कर लेते है
तेरी जुदाई में ये सनम तेरी यादों से मुलाकात कर लेते है

नही दुनिया मे किसी को पसन्द बंदिशो में रहना यहां।
इस लिये हर सुंदर ख्यालों को दिल से आजाद कर लेते है।।

शायद कही मेरा तेरा फिर से जग में मिलन हो जाये।
इसलिए हर लम्हो को तेरी ख्वाबों ख्यालो में बर्बाद कर लेते है।।।

कोई मुझे तेरे नाम से बदनाम करें तो कोई गम नही।
हम ऐसी मतलबी दुनियां के तानो को नजरअंदाज कर लेते है।

सोनू जैन मंदसौर
कॉपीराइट सुरक्षित

Language: Hindi
7 Likes · 2 Comments · 357 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
वह (कुछ भाव-स्वभाव चित्र)
Dr MusafiR BaithA
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
कितने अच्छे भाव है ना, करूणा, दया, समर्पण और साथ देना। पर जब
कितने अच्छे भाव है ना, करूणा, दया, समर्पण और साथ देना। पर जब
पूर्वार्थ
कड़वा है मगर सच है
कड़वा है मगर सच है
Adha Deshwal
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
अछूत
अछूत
Lovi Mishra
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
फ़ितरत
फ़ितरत
Dr.Priya Soni Khare
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भारत देश
भारत देश
लक्ष्मी सिंह
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
कल की चिंता छोड़कर....
कल की चिंता छोड़कर....
जगदीश लववंशी
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"समाहित"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
2588.पूर्णिका
2588.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
sushil sarna
सब सूना सा हो जाता है
सब सूना सा हो जाता है
Satish Srijan
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
Loading...