Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

दीपों की माला

दीपों की माला में , जीवन पिरो लो
खुशियों से खुद को, सराबोर कर लो

बिखेर दो रोशनी , आँगन मे सभी के
रंगोली के रंग , जीवन में भर लो

चांद तारे सभी ,उतर आए ज़मी पर
दीपों से संसार , रोशन कर लो

खिला दो कुछ रंग , जीवन में सभी के
दिवाली की इतना , पावन कर लो

दीपों की माला में , जीवन पिरो लो
खुशियों से खुद को, सराबोर कर लो

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

Language: Hindi
1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
"नेशनल कैरेक्टर"
Dr. Kishan tandon kranti
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
विचारों का शून्य होना ही शांत होने का आसान तरीका है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
मुस्कुराहट खुशी की आहट होती है ,
Rituraj shivem verma
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
आज का नेता
आज का नेता
Shyam Sundar Subramanian
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
*बादल चाहे जितना बरसो, लेकिन बाढ़ न आए (गीत)*
*बादल चाहे जितना बरसो, लेकिन बाढ़ न आए (गीत)*
Ravi Prakash
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
पूर्वार्थ
प्रेम की नाव
प्रेम की नाव
Dr.Priya Soni Khare
@ खोज @
@ खोज @
Prashant Tiwari
अपने होने
अपने होने
Dr fauzia Naseem shad
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
जीवन की धूल ..
जीवन की धूल ..
Shubham Pandey (S P)
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
चांद चेहरा मुझे क़ुबूल नहीं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
बाल शिक्षा कविता पाठ / POET : वीरचन्द्र दास बहलोलपुरी
Dr MusafiR BaithA
नियोजित शिक्षक का भविष्य
नियोजित शिक्षक का भविष्य
साहिल
Loading...