Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

दीपावली

हम लाए हैं वो दीप जलाने के वास्ते।
दुनिया से सब अंधेरा मिटाने के वास्ते।

इसमें वफा खुलूस मोहब्बत की रौशनी।
इसमें हर एक शख्स के चाहत की रौशनी।
हर दर्द मंद के लिए राहत की रौशनी।
शर्म ओ हया ईसार ओ मुरव्वत की रौशनी।
फैले गी चारों सिम्त अखूवत की रौशनी।
सब के लिया यहां है जरूरत की रौशनी।

हम लाए वह चिराग जलाने के वास्ते।
दुनिया से सब अंधेरा मिटाने के वास्ते।

ऐसा चिराग जल के जो नफरत मिटाएगा।
हर एक दिल से अब की अदावत मिटाएगा।
खौफ ओ हिरास मुल्क से दहशत मिटाएगा।
रोशन करेगा इल्म, जिहालत मिटाएगा।
हम लाए हैं वो दीप जलाने के वास्ते।
दुनिया से सब अंधेरा मिटाने के वास्ते।

चेहरे पर खुशी होगी सब खुशियां मनाएंगे।
गम को भुला के आज सभी मुस्कुराएंगे।
कल बीत गया है जो उसे भूल जाएंगे।
मंजिल की तरफ अपने कदम को बढ़ाएंगे।

हम लाए हैं वो दीप जलाने के वास्ते।
दुनिया से सब अंधेरा मिटाने के वास्ते।

रोशन करें जमीन को जो आसमान को।
पुर नूर कर दे मुल्क के सारे मकान को।
हिम्मत जो बख्से मुल्क के हर नौजवान को।
रोशन करे “सगीर” जो सारे जहान को।

हम लाए हैं वो दीप जलाने के वास्ते।
दुनिया से सब अंधेरा मिटाने के वास्ते।

Language: Hindi
1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
अपभ्रंश-अवहट्ट से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
_सुलेखा.
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हम कहां तुम से
हम कहां तुम से
Dr fauzia Naseem shad
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
*Author प्रणय प्रभात*
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
आजकल कल मेरा दिल मेरे बस में नही
कृष्णकांत गुर्जर
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
“तड़कता -फड़कता AMC CENTRE LUCKNOW का रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम” (संस्मरण 1973)
DrLakshman Jha Parimal
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
जीवन में जब विश्वास मर जाता है तो समझ लीजिए
प्रेमदास वसु सुरेखा
सच, सच-सच बताना
सच, सच-सच बताना
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
*कविता पुरस्कृत*
*कविता पुरस्कृत*
Ravi Prakash
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
अजान
अजान
Satish Srijan
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
💐प्रेम कौतुक-355💐
💐प्रेम कौतुक-355💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
मैं नारी हूं
मैं नारी हूं
Mukesh Kumar Sonkar
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
निकल गया सो निकल गया
निकल गया सो निकल गया
TARAN VERMA
"रहस्यमयी"
Dr. Kishan tandon kranti
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
Ek abodh balak
Ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...