Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Nov 2023 · 1 min read

दीपावली त्यौहार

वह मंगल दीप दीपावली है
दीपों से जगमग थाली है

लहर रोशनी की फैली हुई है
दिल में खुशियां की बहार है

लक्ष्मी के आगमन का समय है
और सभी घरों में तैयारियाँ है

दीयों का चमकता सौंदर्य है
गली में पटाखों की बरसात है

खुशहाली का संगीत है
सजावट से सजी हर दीवार है

गगन में उठी ऊंची पुकार है
मिठास से भरी सबकी जुबां है

मंदिर मंदिर में उजियारा है
श्रद्धा विश्वास की आरती है

होठों पर सबके मुस्कान है
आत्मा आनंद से भरी हुई है

प्रकाशमय आज सारा देश है
दीपावली त्यौहार की धूम है।

– सुमन मीना (अदिति)

1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
आया सावन झूम के, झूमें तरुवर - पात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मौज के दोराहे छोड़ गए,
मौज के दोराहे छोड़ गए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
*मेरे मम्मी पापा*
*मेरे मम्मी पापा*
Dushyant Kumar
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आपकी सोच
आपकी सोच
Dr fauzia Naseem shad
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
यें सारे तजुर्बे, तालीम अब किस काम का
Keshav kishor Kumar
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बोझ
बोझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य साधना
सत्य साधना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वनिता
वनिता
Satish Srijan
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
Surinder blackpen
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
*सबसे ज्यादा घाटा उनका, स्वास्थ्य जिन्होंने खोया (गीत)*
Ravi Prakash
Loading...