Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

दिल की पुकार है _

दिल की पुकार है _
यह प्यारा संसार है।
निभाएंगे_

प्रीत,
निभा तुम भी _
लीजिए ।
इसी में सार है।।
राजेश व्यास_ अनुनय

1 Like · 377 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rajesh vyas
View all
You may also like:
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धुँधली तस्वीर
धुँधली तस्वीर
DrLakshman Jha Parimal
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
4) “एक और मौक़ा”
4) “एक और मौक़ा”
Sapna Arora
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Seema Varma
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
बढ़ता कदम बढ़ाता भारत
AMRESH KUMAR VERMA
💐Prodigy Love-37💐
💐Prodigy Love-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" मंजिल का पता ना दो "
Aarti sirsat
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
सिर्फ चलने से मंजिल नहीं मिलती,
Anil Mishra Prahari
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब ना जीना किश्तों में।
अब ना जीना किश्तों में।
Taj Mohammad
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
*सिखलाऍं सबको दया, करिए पशु से नेह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज का अनूठा शेर।
■ आज का अनूठा शेर।
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
Loading...