Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी

दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गीतिका)
➖➖➖➖➖➖➖➖
1
दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली
जगा दे मन में अपनापन, मधुर वह प्यार है होली
2
मिटा दो आज के दिन,चल रहे सदियों के झगड़ों को
सिखाती मिल के रहने का,सजग व्यवहार है होली
3
चली जो धार-पिचकारी, तो सारे हो गए अपने
न अब कोई धनी-निर्धन, यही आधार है होली
4
न जाने चीज कैसी है, जो गालों पर मली जाती
बना देती गुलालों से ही, रिश्तेदार है होली
5
जला देती है सारे द्वेष, ईर्ष्या-दर्प पावक में
जली थी होलिका-कपटी, कथा का सार है होली
_________________________
पावक = अग्नि, आग
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
रिश्ते
रिश्ते
Ashwani Kumar Jaiswal
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
అందమైన తెలుగు పుస్తకానికి ఆంగ్లము అనే చెదలు పట్టాయి.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2874.*पूर्णिका*
2874.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
दैनिक जीवन में सब का तू, कर सम्मान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
लहजा
लहजा
Naushaba Suriya
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
ज़िस्म की खुश्बू,
ज़िस्म की खुश्बू,
Bodhisatva kastooriya
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
हम भी देखेंगे ज़माने में सितम कितना है ।
Phool gufran
Loading...