Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

दिन और रात-दो चरित्र

चरित्र
दिन और रात के
चरित्र में कितना
अंतर होता है..
दिन में दोस्त सभी
रात में तन्हा होता है।
उजली उजली बातें
अपनी रहने दो
कड़वी कड़वी बातें
उनको कहने दो
दीप शिखा से सब
जल रहे/ तुम भी जलो
देखो
अंधियारे का इतिहास
नहीं होता।।
कुछ पल को ही तुमने
जीवन मान लिया
अपलक अपलक करते
बिस्तर ठान लिया
गवाह है तकिया,कैसी
रात कटी होगी
भीगी भीगी सेज सपन की
सबने ही सही होगी।।
सूर्यकांत द्विवेदी

Language: Hindi
45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
पद्मावती पिक्चर के बहाने
पद्मावती पिक्चर के बहाने
Manju Singh
उसको उसके घर उतारूंगा मैं अकेला ही घर जाऊंगा
उसको उसके घर उतारूंगा मैं अकेला ही घर जाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
क्या ?
क्या ?
Dinesh Kumar Gangwar
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हमको जो समझें
हमको जो समझें
Dr fauzia Naseem shad
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
प्रस्फुटन
प्रस्फुटन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
फितरत
फितरत
Dr.Khedu Bharti
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
लोग एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त हुए
ruby kumari
दूर देदो पास मत दो
दूर देदो पास मत दो
Ajad Mandori
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
अक़ीदत से भरे इबादत के 30 दिनों के बाद मिले मसर्रत भरे मुक़द्द
अक़ीदत से भरे इबादत के 30 दिनों के बाद मिले मसर्रत भरे मुक़द्द
*Author प्रणय प्रभात*
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
धर्मी जब खुल कर नंगे होते हैं।
Dr MusafiR BaithA
Loading...