Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

दामिनी

चीख थी वो उसकी, पर किसी ने ना सुनी,
जिसने सुनी ,उसने कर दी अनसुनी.
जिसकी थी जीने की तमन्ना, वही हम सबको छोड चली
क्यों एक लडकी फिर से, इन दैत्यों के हाथों छली.
यहां हर बीस मिनट में लडकी , दानवों की बलि चढी
थी जो इस देश की राजधानी, वह अब बलात्कारियों की राजधानी है बनी.
इतना सब होने के बाद भी, पीडित लडकी ही दोषी बनी
देखो इन दुस्साहसी दानवों को ,अपनी गलती लडकी पर ही मढी.
क्या होगा अब इस देश का, इसी सोच में मैं अब तक पडी
जो आई थी इस देश में, सीख देने व बनाने एक मजबूत कडी.
एक मात्र जिसने चीख थी सुनी , वह सरकार के डर से उड चली
अब तो जो खेलते थे सालों से ,
चलो खेलें वही आंख मिचौली ,चलो खेलें वही आंख मिचौली
मितुल एम जुगतावत

439 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
आपातकाल
आपातकाल
Shekhar Chandra Mitra
गूँगी गुड़िया ...
गूँगी गुड़िया ...
sushil sarna
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
कैसे बताऊं मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*डॉ. विश्व अवतार जैमिनी की बाल कविताओं का सौंदर्य*
*डॉ. विश्व अवतार जैमिनी की बाल कविताओं का सौंदर्य*
Ravi Prakash
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
धीरज और संयम
धीरज और संयम
ओंकार मिश्र
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
मैं उसी पल मर जाऊंगा
मैं उसी पल मर जाऊंगा
श्याम सिंह बिष्ट
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
अध्यात्म का अभिसार
अध्यात्म का अभिसार
Dr.Pratibha Prakash
2673.*पूर्णिका*
2673.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
"मुक्तिपथ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...