Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Apr 2023 · 4 min read

दादा की मूँछ

कहानी- दादा की मूँछ
रिश्तों और प्रेम की इस दर्द भरी कहानी को कहां से शुरू करूं, असमंजस से घिरी हूं। रिश्ते ही जीवन को गढ़ते हैं,जीवंत बनाते हैं, प्रेम की बेल होते हैं। रिश्तों के कारण ही मनुष्य जीवन में आगे बढ़ने की,सफलता पाने की, शिक्षित होने की तथा कार्य करने की इच्छा रखता है। रिश्तों की मधुरता जीवन को मधुर,सुखमय व खुशहाल बनाती है इसलिए तो रिश्तों में खटास आते ही व्यक्ति टूट जाता है।

व्यक्तियों के बीच आपस में होने वाले लगाव,संबंध या संपर्क को ही रिश्तों की संज्ञा दी है। हम सब रिश्तों की अदृश्य डोर से हमेशा बंधे रहते हैं। जिसके कारण हम एक दूसरे के सुख-दुख में काम आते हैं, परंतु आज समाज में मानवीय मूल्य तथा पारिवारिक मूल्य धीरे- धीरे कम होते जा रहे हैं। जिन रिश्तों को हम अपने कर्मों द्वारा सींचते हैं, वे अब समाप्त होने के कगार पर हैं।

कलियुग में सब अकेले रहना चाहते हैं। शादी होते ही बेटा-बहू अलग रहने लगते हैं। बड़ों के अनुभव से सीख लेने वाला कोई नहीं है। अब तो बुजुर्गों की मूछें और बाल यूंही पक कर व्यर्थ हो जाते हैं।
एक दिन पार्क में घूमते हुए कुछ वृद्ध-बुजुर्गों का वार्तालाप सुनकर मैं वहीं अटक सी गई। कितनी बेचैनी और लाचारी इन दादा का पद प्राप्त किए हुए बुजुर्गों में दिखाई दे रही थी। पार्क में मिल- जुल कर सब लोग जोर-जोर से हंस तो रहे थे लेकिन यह खोखली और नकली हंसी हृदय में चुभ रही थी। दूर अनमनी से बैठी मेरे कानों
को उनकी बातें तीर की तरह भेद रही थीं।

सभी अपने अंतःकरण में घनीभूत पीड़ा को दबाए हुए,ऊपरी रूप से झूठी हंसी हंसने की कोशिश कर रहे थे। जिससे उनका शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा हो सके। वास्तव में आनंद एक मनोवैज्ञानिक अवस्था है। जिसे मनोविज्ञान में सकारात्मक प्रभाव के रूप में परिभाषित किया जाता है।

आज भले ही इनके पास दोस्त हैं। सब मिलकर व्यायाम कर रहे हैं, लेकिन इनका अंतर सूना पड़ा है, क्योंकि इनके अपने इनके साथ नहीं हैं। जिससे ये अपने आपको वंचित महसूस करते हैं। इनकी शारीरिक बीमारियां तो ठीक हो जाती हैं पर इनकी मानसिक बीमारी रिश्तों का खालीपन, इन्हें बहुत ठेस पहुंचाता है।

समूह में से एक ने कहा- अरे यार, क्या तुम सबको मालूम है। जब पोता दादा की मूँछें खींचता है तो दादा की उम्र दस साल कम हो जाती है। दूसरा बोला- हमें क्या पता ? हमारा पोता तो साल में कुछ दिनों के लिए हमसे मिलता है, उस पर भी बहुत सारे नियम उसके साथ लगे होते हैं।

तीसरा बोला- हां यार, यही हाल अपना भी है। तभी चौथा बोल पड़ा- मेरा पोता रहता तो मेरे घर के सामने ही है पर बहू मुझसे मिलने नहीं देती। कहती है, उनके साथ रहकर तुम भी उनके जैसे अनपढ़ गँवार बन जाओगे। उन्हें खाना तक तो ठीक से खाना नहीं आता है,दाल-भात हाथ से खाते हैं। पुराने जमाने का धोती कुर्ता पहने रहते हैं। अब तुम ही बताओ भाई, हम सब तो अपनी संस्कृति में इतने रचे बसे हैं की उसे हम कैसे छोड़ सकते हैं ?

तभी पांचवाँ बोल पड़ा- देख लेना पश्चिम की ओर उड़कर यह नई पीढ़ी के लोग कुछ प्राप्त नहीं कर पाएंगे। बाद में त्रिशंकु सम अधर में ही लटके रह जाएंगे।

छठवां बुजुर्ग बड़े धीरे से बोला- भाई, स्थिति और दशा तो मेरी भी आप लोग जैसी ही हैं लेकिन इतने दिन तक अपने बेटे-बहू की झूठी तारीफ करके तुम सबसे अपना दुख छिपाता रहा,पर आज तुम सब लोगों की व्यथा-कथा सुनकर मुझमें भी हिम्मत आ गई है। मेरी पत्नी को स्वर्गवासी हुए आज पांच साल हो गए हैं, तब से मेरी स्थिति नरक के समान हो गई है, ना तो ठीक से जी पाता हूं और ना मर ही सकता हूं।
पेंशन मिलती है,पैसे की कमी नहीं है पर बच्चों के साथ खेलने के लिए जी बहुत ललचाता है। बच्चे विदेशों में अपना-अपना जीवन जी रहे हैं। मैं अकेला घर में अपनी पत्नी की फोटो से सुख-दुख साझा कर लेता हूं। बोलते-बोलते उसकी आंखें नम हो चली थी। रोकते-रोकते भी एक बूंद हाथ पर टपक ही गई।

सब ने मिलकर विष्णु को सांत्वना दी और कहा- अरे विष्णु हम सब की स्थिति एक ही है। तुम नाहक ही परेशान होते हो। यह तो मनोहर ने मूँछों वाली बात छेड़ कर हम सब के नासूर हरे कर दिए, वरना हम सब कितनी जोर-जोर से हंस रहे थे। ओम प्रकाश बोल पड़ा- मैं तो मनोहर का धन्यवाद देता हूं कि जिसने हमारे नासूर को फटने से रोक लिया। अब हम सब एक- दूसरे की वास्तविकता जान चुके हैं इसलिए आज से हम सब और गहरे बंधन में बंध गए हैं, साथ ही झूठी मानसिकता से राहत पा चुके हैं।
सभी लोग एक-दूसरे का हाथ पकड़ कर गले मिलते हुए फिर जोर-जोर से हंसने लगे। इस बार हंसी पूरी तरह झूठी नहीं थी। मन का बोझ कुछ हल्का हो चुका था।
विष्णु बोला- मनोहर यार,तुमने ही दादा की मूँछ का जिक्र किया और तेरी तो मूंछ ही नहीं है। तेरा पोता खींचेगा क्या ? मनोहर ने भी चुटकी लेते हुए कहा, मेरी ना सही तेरी तो हैं, तेरी ही खींच लेगा।
सबको हंसता मुस्कुराता देख अनायास ही मेरे होठों पर भी हंसी आ गई।
जिस परिवार के बड़े-बुजुर्गों का सम्मान नहीं होता। उस परिवार में सुख-संतुष्टि और स्वाभिमान नहीं आ सकता। हमारे बड़े-बुजुर्ग हमारा स्वाभिमान हैं , हमारी धरोहर हैं। उन्हें सहेजने की जरूरत है। यदि हम परिवार में स्थाई सुख- शांति और समृद्धि चाहते हैं, तो परिवार में उनका सम्मान करें। अपने बच्चों को उनका सानिध्य दें। बच्चे उनके साथ रहकर जो संस्कृति और संस्कार सीखेंगे। वह उनके जीवन की अद्भुत पूंजी होगी।

डॉ.निशा नंदिनी भारतीय
तिनसुकिया,असम

Language: Hindi
1 Like · 491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Nisha nandini Bhartiya
View all
You may also like:
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
शेर
शेर
Monika Verma
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
बे-फ़िक्र ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
दीवार में दरार
दीवार में दरार
VINOD CHAUHAN
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/178.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
My City
My City
Aman Kumar Holy
"डर"
Dr. Kishan tandon kranti
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
इंसानों के अंदर हर पल प्रतिस्पर्धा,स्वार्थ,लालच,वासना,धन,लोभ
Rj Anand Prajapati
चाँद
चाँद
TARAN VERMA
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
सब बढ़िया
सब बढ़िया
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...