Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 30, 2016 · 1 min read

दशरथ मांझी को मेरा सलाम

क्या कमाल की दुनिया है यारो…
दशरथ मांझी जब अकेले ही पत्थर काट रहे थे तब कोई सरकारी गुलाम नही गया ..पूछने ?

कोई तो पूछता “ऐसा क्यों कर रहे आप ? में सरकार को अरजी देता हूँ , ये सड़क बनवाना सरकार का काम है,जो काम सरकारी सहयोग से चंद वर्षो मे संम्पन्न हो सकता है उसके लिए पूरा जीवन न घोलें आप l

अब जब पथ्थर तोड़ने में सम्पूर्ण जीवन घोल ही दिया तो क्या कहते है ये गुलाम ज़रा गौर करें…
“में जब भी उधर से जाता हूँ, रुक कर हाथ जोड़ कर सास्टांग दंडवत करता हूँ l” सू..
ति..
ये…
अरे फोटो खींचो भाई कोई इसका कल अखबार में इनकी करूँण रुन्दन का सचित्र वर्णन होगा l ?

“दशरथ मांझी – मेरा सलाम”

दुस्तंत्र,भयाह्वः,चट्टान के सामान अहंकार को खंड-विखंड कर देने वाला था वो माझी,
इस विभद्दस,कुरूप तंत्र को आइना दिखलाने वाला था वो माझी,
इस अचेत, निर्मम स्वभाव को परिश्रम के शौर्य से दफ़्न कर देने वाला था वो माझी, पद,महान,गौरव-गाथा झूठी,शान को तार-तार कर देने वाला था वो माझी,
हौसला,शाहस,फौलाद सा अडिग,
इन शब्दों को एक और मुकाम देंने वाला था वो माझी,
आदर्शवाद,और झूठे दर्शन-शास्त्र की झूठी उड़ान को पाँवो तले कुचल कर रख देने वाला था मांझी,
एक साधारण सा दिखने वाला “आम आदमी”था वो “दशरथ मांझी”
लोक-प्रशासन,सत्ता-संघर्ष राजनीति को
चुनौती देने वाला था वो माझी,
नतमस्तक,सास्टांग-दंडवत का ढोंग न करो ,
प्रह्लाद से ध्रुव बन तुम्हे इस योग्य भी कहां छोड़ने वाला था वो माझी,

मृदुल चंद्र श्रीवास्तव
-The Truth-

151 Views
You may also like:
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
If we could be together again...
Abhineet Mittal
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
Loading...