Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

दलित के भगवान

दलित के भगवान,,
ज्योतिबा फुले अरू गाडगे, अंबेडकर रहे महान।
विचारधारा एक रहे, ,करते रहे संग्राम।।
दशा देख लो गन की, नैना बरसे नीर ।
माली हालत देख दशा, तीनों आये तीर।।
तीनों मिल मंथन किये सुमत किये विचार ।
न भाला बरछी टंगिया, शिक्षा लिया हथियार।।
शांति भाव के धनी तीनों, करने लगे विचार।।
समझ गए तीनों लोगन,बड़ शिक्षा का परिणाम।
घूम घूम प्रचार करें ,शिक्षा जगत महान।।
दलित समुदाय को उच्च उठाने बीड़ा ली उठाय।
भाषण बाजी कम किया ,कर्म किए खुद जाय।।
ज्योतिबा फुले अनुभवी रहे, गाडगे छोड़ें घर द्वार ।
घर घर अलख जगाते चले, शिक्षा कका किया प्रचार।। साथ रहे अंबेडकर दिल से, बना दिया संविधान।
ज्योतिबा फुले अरू गाडगे,अंबेडकर रहे महान ।।
चरण लगू, पूजन करूं, दलित कै भगवान।
दीन दुखी को शरण दिये, त्रिमूर्ति रहे महान।।
विजय हृदय गाने लगे ,तीनों के गुणगान।
सहृदय नमन करूं, अनंत अनंत प्रणाम।।

डां विजय कुमार कन्नौजे अमोदी वि खं आरंग जिला रायपुर छत्तीसगढ

Language: Hindi
3 Likes · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
स्मार्ट फोन.: एक कातिल
ओनिका सेतिया 'अनु '
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
*अज्ञानी की कलम से हमारे बड़े भाई जी प्रश्नोत्तर शायद पसंद आ
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
खुश वही है , जो खुशियों को खुशी से देखा हो ।
Nishant prakhar
* जिन्दगी *
* जिन्दगी *
surenderpal vaidya
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
नींद
नींद
Kanchan Khanna
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-524💐
💐प्रेम कौतुक-524💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
ठिठुरन
ठिठुरन
Mahender Singh
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
*पाते किस्मत के धनी, जाड़ों वाली धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Hum to har chuke hai tumko
Hum to har chuke hai tumko
Sakshi Tripathi
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
आलस्य एक ऐसी सर्द हवा जो व्यक्ति के जीवन को कुछ पल के लिए रा
Rj Anand Prajapati
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
कभी कभी अच्छा लिखना ही,
नेताम आर सी
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
पुराना साल जाथे नया साल आथे ll
Ranjeet kumar patre
नारी हो कमज़ोर नहीं
नारी हो कमज़ोर नहीं
Sonam Puneet Dubey
नशा
नशा
Mamta Rani
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
वृद्धों को मिलता नहीं,
वृद्धों को मिलता नहीं,
sushil sarna
Loading...