Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2016 · 1 min read

दर्पण की तरह सुनने का हुनर

अर्ज किया है —
हम दर्पण की तरह सुनने का हुनर रखते हैं बशर्ते आप अपना समझने का हौंसला रखिये
हम दिल से कद्र करना हर रिश्ते की जानते हैं
बशर्ते आप निभाने का अटल फैसला रखिये

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Comment · 546 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from कृष्ण मलिक अम्बाला
View all
You may also like:
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
पहली दफा
पहली दफा
जय लगन कुमार हैप्पी
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
तेरी - मेरी कहानी, ना होगी कभी पुरानी
The_dk_poetry
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
पागल
पागल
Sushil chauhan
बाल कहानी- टीना और तोता
बाल कहानी- टीना और तोता
SHAMA PARVEEN
रोगों से है यदि  मानव तुमको बचना।
रोगों से है यदि मानव तुमको बचना।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
किस्सा ये दर्द का
किस्सा ये दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-305💐
💐प्रेम कौतुक-305💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
Paras Nath Jha
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
मुझे
मुझे "विक्रम" मत समझो।
*Author प्रणय प्रभात*
जब  भी  तू  मेरे  दरमियाँ  आती  है
जब भी तू मेरे दरमियाँ आती है
Bhupendra Rawat
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
gurudeenverma198
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Mr.Aksharjeet
*सात शेर*
*सात शेर*
Ravi Prakash
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
दुःख
दुःख
Dr. Kishan tandon kranti
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
Loading...