Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

*दर्द*

आधार छंद =आनंदवर्धक
मापनी =2122 2122 212
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया
आँख में आँसू छिपाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~~
नफरतों को दिल ‘से ‘सारी भूल कर
प्रीत के ही गीत गाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~
बचपनों की देख कर अठखेलियाँ
याद फिर गु़जरा जमाना आ गया
~~~~~~~~~~~~~~~~~
उलझनें दिल से हमारे मिट गयी
आज फिर मौसम सुहाना आ गया ~~~~~~~~~~~~~~~~~
ज़िंदगी में अब नहीँ हैं आंधियाँ
मुश्किलों से पार पाना आ गया

1 Comment · 288 Views
You may also like:
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंतर्मन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कहो‌ नाम
Varun Singh Gautam
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
ज़िंदगी पर लिखे शेर
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
मनमीत मेरे
Dr.sima
जीवन आनंद
Shyam Sundar Subramanian
दुश्मन बना देता है।
Taj Mohammad
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
'हकीकत'
Godambari Negi
चलते रहना ही बेहतर है, सुख दुख संग अकेली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शेर
dks.lhp
नमन पूर्वजों के चरणों में ( श्रद्धा गीत )
Ravi Prakash
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
स्वागत बा श्री मान
आकाश महेशपुरी
दिवाली है
शेख़ जाफ़र खान
” DRAGON HAS NO RIGHT TO SWALLOW SOUTH CHINA SEA...
DrLakshman Jha Parimal
जिज्ञासा
Rj Anand Prajapati
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
रावण राज
Shekhar Chandra Mitra
#मजबूरी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
దీపావళి జ్యోతులు
विजय कुमार 'विजय'
यह जिन्दगी क्या चाहती है
Anamika Singh
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...