Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2018 · 1 min read

दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है ।

दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है
उफ़ मोहब्बत का अक्सर ये अंजाम है ।
ना हो मायूस इसकी कसक को समझ,
इश्क़ की हर कशिश मुश्किलों को समझ,
वक़्त पर छोड़ दे व्यर्थ में मत उलझ
एक किस्सा पुराना बहुत आम है
दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है
उफ़ मोहब्बत का अक्सर ये अंजाम है।
चाँद किसको मिला है कहो आज तक,
प्यास पपिहे की बोलो बुझी आज तक,
सिर्फ चातक बना दूर से देखता
मेघ अब तक मयूरा मगन देखता,
मूक आराधना भी बड़ा काम है।
दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है
उफ़ मोहब्बत का अक्सर ये अंजाम है
कुछ कहो मत कहो दिख रही हर सुबह,
पीर पर्वत सी बढती रही हर सुबह,
मन भगीरथ बना तृप्ति की आस में ,
तन भटकता रहा प्यास को पास में,
प्यास से ही फक़त तृप्ति का नाम है।
दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है
उफ़ मोहब्बत का अक्सर ये अंजाम है ।
गम न कर दर्दे दिल की दवा ढूँढ ले,
इक रूहानी सुहानी दुआ ढूँढ ले
चार दिन का रहा चाँदनी का चलन,
सिर्फ खाली औ खाली रहा है गगन,
फिर वही खाली खाली सुबह शाम है
दर्द चाहत भरा इक हसीं जाम है
उफ़ मोहब्बत का अक्सर ये अंजाम है।

Language: Hindi
224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनुराग दीक्षित
View all
You may also like:
जल प्रवाह सा बहता जाऊँ।
जल प्रवाह सा बहता जाऊँ।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
खुशियों की डिलीवरी
खुशियों की डिलीवरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
श्रमिक
श्रमिक
Neelam Sharma
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
पूर्वार्थ
नववर्ष का आगाज़
नववर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
वक्त-ए-रूखसती पे उसने पीछे मुड़ के देखा था
Shweta Soni
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
यूँ तैश में जो फूल तोड़ के गया है दूर तू
यूँ तैश में जो फूल तोड़ के गया है दूर तू
Meenakshi Masoom
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
हुईं क्रांति
हुईं क्रांति
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/22.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
खुद के वजूद की
खुद के वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
इस नये दौर में
इस नये दौर में
Surinder blackpen
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
VINOD CHAUHAN
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
#बस_छह_पंक्तियां
#बस_छह_पंक्तियां
*प्रणय प्रभात*
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
जिंदगी की फितरत
जिंदगी की फितरत
Amit Pathak
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
कहां की बात, कहां चली गई,
कहां की बात, कहां चली गई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मजदूरों के मसीहा
मजदूरों के मसीहा
नेताम आर सी
पुरखों के गांव
पुरखों के गांव
Mohan Pandey
Loading...