Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

“दरख़्त”

“दरख़्त”
कभी हुआ करता था
यहॉं पर एक दरख़्त
तब आबाद थी सरजमीं
चिड़ियों के घोंसले
पक्षियों का कलरव
बच्चों के झूले
कि देखने वालों के मन छू ले।

4 Likes · 2 Comments · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
2509.पूर्णिका
2509.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
यहां से वहां फिज़ाओं मे वही अक्स फैले हुए है,
manjula chauhan
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
स्त्री मन
स्त्री मन
Surinder blackpen
💐अज्ञात के प्रति-148💐
💐अज्ञात के प्रति-148💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
ज़िंदगी में एक बार रोना भी जरूरी है
Jitendra Chhonkar
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....,
कवि दीपक बवेजा
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
बचपन
बचपन
Anil "Aadarsh"
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
■ दास्तानें-हस्तिनापुर
*Author प्रणय प्रभात*
आदिवासी
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
--: पत्थर  :--
--: पत्थर :--
Dhirendra Singh
Loading...