Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 7, 2016 · 1 min read

दमागों दिल में हलचल हो रही है,

दमागो दिल मै हलचल हो रही है.
नदी यादों की बे कल हो रही है.

तू अपने फेस को ढँक कर निकलना.
नगर मै धूप पागल हो रही है.

तुम्हारी याद का डाका पड़ा है.
हमारी ज़ीस्त चम्बल हो रही है.

अभी तो शोक से फाडा है दामन.
अभी तो बस रिहर्सल हो रही है.

तेरी आँखों पे चश्मा गैर का है.
मेरी तस्वीर ओझल हो रही है.

——//अशफाक रशीद….

158 Views
You may also like:
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
फूल
Alok Saxena
विसाले यार
Taj Mohammad
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
सुंदर बाग़
DESH RAJ
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
काँच के रिश्ते ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Aruna Dogra Sharma
ऐ वतन!
Anamika Singh
तुम...
Sapna K S
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...