Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2024 · 1 min read

दबी जुबान में क्यों बोलते हो?

दबी जुबान में क्यों बोलते हो?
अगर बोलो तो लगे बोलते हो।

76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
चेहरा नहीं दिल की खूबसूरती देखनी चाहिए।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नहीं कोई धरम उनका
नहीं कोई धरम उनका
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
क्षितिज
क्षितिज
Dhriti Mishra
Swami Vivekanand
Swami Vivekanand
Poonam Sharma
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
*कर्ज लेकर एक तगड़ा, बैंक से खा जाइए 【हास्य हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
रात
रात
SHAMA PARVEEN
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
3281.*पूर्णिका*
3281.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सरकार~
सरकार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
"क्या मझदार क्या किनारा"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
ख्वाब दिखाती हसरतें ,
sushil sarna
"The Dance of Joy"
Manisha Manjari
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
****हमारे मोदी****
****हमारे मोदी****
Kavita Chouhan
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
जीवन पथ
जीवन पथ
Dr. Rajeev Jain
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
अक्सर यूं कहते हैं लोग
अक्सर यूं कहते हैं लोग
Harminder Kaur
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
शेखर सिंह
Loading...