Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2023 · 1 min read

दंगे-फसाद

न तो हिन्दू तबाह होता है
न ही मुसलमान तबाह होता है!
इन दंगे-फसादों में केवल
हिंदुस्तान तबाह होता है!
मुझे आती है अपने आप पर
कितनी ज़्यादा शर्म न पूछ!
जब एक इंसान के रहते
दूसरा इंसान तबाह होता है!
#दंगा #Hate #सांप्रदायिकता
#politics #धर्मांधता #कट्टरता
#riots #communal #राजनीति
#राजनीतिक #धर्म_की_राजनीति

Language: Hindi
569 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
जंगल ही ना रहे तो फिर सोचो हम क्या हो जाएंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
🙅पक्का वादा🙅
🙅पक्का वादा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
Dr fauzia Naseem shad
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
*भगवान गणेश जी के जन्म की कथा*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
विचार
विचार
Godambari Negi
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
तुम वोट अपना मत बेच देना
तुम वोट अपना मत बेच देना
gurudeenverma198
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
Destiny
Destiny
Dhriti Mishra
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
पथिक आओ ना
पथिक आओ ना
Rakesh Rastogi
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
लड़का पति बनने के लिए दहेज मांगता है चलो ठीक है
शेखर सिंह
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रार्थना
प्रार्थना
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Love Letter
Love Letter
Vedha Singh
डाल-डाल पर फल निकलेगा
डाल-डाल पर फल निकलेगा
Anil Mishra Prahari
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
एक आज़ाद परिंदा
एक आज़ाद परिंदा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...