Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

थोड़ा Success हो जाने दो यारों…!!

थोड़ा Success हो जाने दो यारों,
अपनी कहानी भी सबको सुनाऊंगा,
थोड़ा वक़्त लगेगा… पर इसी महफ़िल में लौट कर वापस आऊंगा !
दुनिया की तमाम बंदिशे तोड़कर निकल पड़ा हूँ अपने रास्ते,
ना चाहत कोई…ना किसी की आदत मुझे..
ना मेरी नज़र में कोई.. ना मुझ पर किसी की नज़र…
एक शोर है मेरे अंदर..जों बाहर से शांत दिखता है,
ज्यादा किसी से बनती नहीं मेरी..फिर भी अपनापन बिखेरता हूँ,
थोड़ा गुरुर भी है मुझमें..जाने किस बात पर अकड़ता हूँ ,
थोड़ा खुद में भी हूँ मगरूर..इसलिए शायद किसी की कदर भी नहीं करता हूँ,
कुछ तोडना चाहते है मुझको..
उन्हें पता नहीं शायद.. पहले से ही कितना टूटा हुआ हूँ मैं,
कुछ छोड़ना चाहते है मुझको..
उन्हें नहीं पता शायद.. पहले ही कितनों से बिछड़ चूका हूँ मैं,
कोई आरोप लगाते है मुझपर..कोई आवेग दिखाते है मुझपर,
किस -किस को मैं बताऊँ.. कितना उलझा हुआ हूँ मैं,
लोगों से दूरी बनाये चलता हूँ..अब किसी बात पे नहीं बिगड़ता हूँ,
कभी खोया रहता हूँ खुद के ख्यालों में..कभी किसी की यादों में खुद को ढकेलता हूँ,
निकल आता हूँ जल्द ही इन बातों से.. ज्यादा वक़्त भी ख़्वाबों में नहीं रहता हूँ मैं,
अब सोच लिया है मैंने.. ज़ब भी मेरा वक़्त आएगा..वही मेरा दौर लाएगा…
जों भी चाहिए मुझे जिन्दगी में..वही सब हक़ीक़त बनाएगा,
थोड़ा Success तो हो जाने दो यारों..
एक दिन अपनी कहानी मैं भी सबको सुनाऊंगा,
थोड़ा वक़्त लगेगा मगर..
इसी महफ़िल में लौटकर आऊंगा…!!

❤️ Love Ravi ❤️

Language: Hindi
Tag: लेख
4 Likes · 4 Comments · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
भीड़ में हाथ छोड़ दिया....
Kavita Chouhan
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
Keshav kishor Kumar
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
वो अपनी जिंदगी में गुनहगार समझती है मुझे ।
शिव प्रताप लोधी
जागो जागो तुम सरकार
जागो जागो तुम सरकार
gurudeenverma198
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
अलसाई सी तुम
अलसाई सी तुम
Awadhesh Singh
???
???
*प्रणय प्रभात*
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
सफलता का लक्ष्य
सफलता का लक्ष्य
Paras Nath Jha
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
In case you are more interested
In case you are more interested
Dhriti Mishra
संवेदना
संवेदना
Neeraj Agarwal
​जिंदगी के गिलास का  पानी
​जिंदगी के गिलास का पानी
Atul "Krishn"
अतीत कि आवाज
अतीत कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
महीना ख़त्म यानी अब मुझे तनख़्वाह मिलनी है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
* छलक रहा घट *
* छलक रहा घट *
surenderpal vaidya
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
“I will keep you ‘because I prayed for you.”
पूर्वार्थ
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
मायड़ भौम रो सुख
मायड़ भौम रो सुख
लक्की सिंह चौहान
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagawan Roy
"किसान का दर्द"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...