Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

तो मैं राम ना होती….?

अगर मुझे अन्याय सहना आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे क्रोध में भी चुप रहना आता
तो मैं राम ना होती ?

अगर मुझे विपरीत स्थिति को स्वीकारना आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे गलत को माफ़ करना आता
तो मैं राम ना होती ?

अगर मुझे केवट के पैर पखारना आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे शबरी के जूठे बेर खाना आता
तो मैं राम ना होती ?

अगर मुझे बड़ों की आज्ञा पर शीश झुकाना आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे चौदह साल वनवास में रहना आता
तो मैं राम ना होती ?

अगर मुझे अपनों से पहले प्रजा का ध्यान रखना आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे प्रजा के लिए अपनों को त्यागना आता
तो मैं राम ना होती ?

अगर मुझे बेहिसाब संयम आता
तो मैं राम ना होती
अगर मुझे देवता होकर इंसान रूप में रहना आता
तो मैं राम ना होती ?

राम कहना आसान है
बनना आसान नहीं है राम
अगर होता आसान
तो मैं राम ना होती ?

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विषाद
विषाद
Saraswati Bajpai
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
पर्दाफाश
पर्दाफाश
Shekhar Chandra Mitra
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"भीषण बाढ़ की वजह"
*Author प्रणय प्रभात*
प्रात काल की शुद्ध हवा
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
"आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
देखी देखा कवि बन गया।
देखी देखा कवि बन गया।
Satish Srijan
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
भारत का ’मुख्यधारा’ का मीडिया मूलतः मनुऔलादी है।
Dr MusafiR BaithA
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
लक्ष्य हासिल करना उतना सहज नहीं जितना उसके पूर्ति के लिए अभि
Sukoon
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
धड़कनो की रफ़्तार यूँ तेज न होती, अगर तेरी आँखों में इतनी दी
Vivek Pandey
*बोल*
*बोल*
Dushyant Kumar
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
शुद्धिकरण
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
कभी कभी पागल होना भी
कभी कभी पागल होना भी
Vandana maurya
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...