Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2024 · 1 min read

तो जानो आयी है होली

तो जानो आयी है होली
—————————
गुन गुन करता भाख रहा हो,
पकवानों को पाक रहा हो,
घूंघट से कोई झाँक रहा हो,
खोल किवाड़े ताक रहा हो।
इतने पर कोई आ जाएं,
जिसे देख गोरी शरमाये।
साजन बोले मीठी बोली।
तो जानो आयी है होली।

अमराई में बौर टंगे हों,
फागों के कई दौर लगे हों,
चल रही धीम बयार कहीं गर,
हो रही सुगन्ध पसार कहीं गर।
हरी डाल लें रही हो झटके,
मधुमक्खी छत्ता यूँ लटके।
लगता लटकी काली झोली।
तो जानो आयी है होली।

झुकी हुई हों गेहूं बालें,
गलबहियां सरसों से डाले,
महुवा गुच्छे में फूले हों,
उन पर बहु भाँवरे झूले हों।
सजनी द्वार बुहार रही हो,
मन में कर मनुहार रही हो।
साजन कर दे हसीं ठिठोली।
तो जानो आयी है होली।

चारों ओर मचे खग चहकन,
पायल बोले छन छन छन छन,
परदेशी घर वापस आये,
मुश्काये तो मन को भाये।
चुपके से दर्पण के आगे,
देख देख सजनी शरमाये।
पहने रंग विरंगी चोली।
तो जानो आयी है होली।

फागुन है ख़ूब होली खेलो,
प्रेम गुलाल कहीं हो ले लो।
‘सृजन’ चार दिनों का पन है,
पल पल बीत रहा यौवन है।
कभी कभी परमार्थ कमा कर,
राम नाम का दाम जमा कर।
जीवन हो जाये चन्दन रोली।
तो जानो आयी है होली।

-सतीश सृजन

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
जब जब तेरा मजाक बनाया जाएगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
दरिया का किनारा हूं,
दरिया का किनारा हूं,
Sanjay ' शून्य'
गुज़रते हैं
गुज़रते हैं
हिमांशु Kulshrestha
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
रखो वक्त निकाल कर  नजदीकिया और  निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
रखो वक्त निकाल कर नजदीकिया और निभा लो अपनापन जो भी रिश्ते
पूर्वार्थ
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
दिल ने गुस्ताखियाॅ॑ बहुत की हैं जाने-अंजाने
VINOD CHAUHAN
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
सतरंगी आभा दिखे, धरती से आकाश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपवित्र मानसिकता से परे,
अपवित्र मानसिकता से परे,
शेखर सिंह
राम विवाह कि हल्दी
राम विवाह कि हल्दी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
आप अपनी DP खाली कर सकते हैं
ruby kumari
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा- पैचान१
बुंदेली दोहा- पैचान१
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
वासियत जली थी
वासियत जली थी
भरत कुमार सोलंकी
अवसाद
अवसाद
Dr Parveen Thakur
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
जीने की वजह हो तुम
जीने की वजह हो तुम
Surya Barman
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
ममत्व की माँ
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
■ बिल्ली लड़ाओ, रोटी खाओ अभियान जारी।
■ बिल्ली लड़ाओ, रोटी खाओ अभियान जारी।
*प्रणय प्रभात*
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
Loading...