Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

तेरे रूप अनेक हैं मैया – देवी गीत

तेरे रूप अनेक हैं मैया – देवी गीत

तेरे रूप अनेक हैं मैया
हर रूप में हमको भाती हो
नवरात्रि में नौ दुर्गा रुप में
हम पर ममता लुटाती हो

तीनो लोक हैं काँपे तुमसे
जब शक्ति रूप धरती हो
चण्‍ड-मुण्‍ड और ऐसे कितने
महिषासुर मर्दन करती हो

तुम बनती हो लक्ष्मी माँ
सारा संसार चलाती हो
धन की वर्षा करती जब
कुटिया भी महल बनाती हो

जब बनती हो वीणापाणि
ज्ञान का दीप जलाती हो
हम जैसे भूले-भटकों को
मंजिल तक पहुँचाती हो

बन कर तुम अन्नपूर्णा माँ
भूखों का पेट भरती हो
पशु पक्षी और मानव जन में
कोई भेद ना करती हो

ममता का प्रतिशोध जब लेती
कालरात्रि बन जाती हो
थर थर काँपे देवता दानव
रौद्र रूप दिखलाती हो

उद्धार करना हो जब भक्तों का
स्वर्ग छोड़ चली आती हो
पतित पावनी हे माँ गंगे
बैकुण्‍ठ भी पहुँचाती हो

कोई परीक्षा लेवे मैया
ज्वाला बनकर दिखलाती हो
बादशाह भी नतमस्तक हो गए
सोने को भी झूठलाती हो

है कोई ढूँढता मंदिर मंदिर
पहाड़ों पर भी मिल जाती हो
सच्चे मन से कोई ढूँढे
अंतर्मन में मिल जाती हो

– आशीष कुमार
मोहनिया, कैमूर, बिहार

2 Likes · 639 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
राना दोहावली- तुलसी
राना दोहावली- तुलसी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चप्पलें
चप्पलें
Kanchan Khanna
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
"इस हथेली को भी बस
*Author प्रणय प्रभात*
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
।। आरती श्री सत्यनारायण जी की।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
होली
होली
Madhavi Srivastava
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
राजनीति के क़ायदे,
राजनीति के क़ायदे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
"तुम भी काश चले आते"
Dr. Kishan tandon kranti
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
*जय सीता जय राम जय, जय जय पवन कुमार (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
दीवाने खाटू धाम के चले हैं दिल थाम के
Khaimsingh Saini
लाल बचा लो इसे जरा👏
लाल बचा लो इसे जरा👏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
देश खोखला
देश खोखला
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
दिल तो ठहरा बावरा, क्या जाने परिणाम।
Suryakant Dwivedi
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
Loading...