Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

तेरे रूप अनेक हैं मैया – देवी गीत

तेरे रूप अनेक हैं मैया – देवी गीत

तेरे रूप अनेक हैं मैया
हर रूप में हमको भाती हो
नवरात्रि में नौ दुर्गा रुप में
हम पर ममता लुटाती हो

तीनो लोक हैं काँपे तुमसे
जब शक्ति रूप धरती हो
चण्‍ड-मुण्‍ड और ऐसे कितने
महिषासुर मर्दन करती हो

तुम बनती हो लक्ष्मी माँ
सारा संसार चलाती हो
धन की वर्षा करती जब
कुटिया भी महल बनाती हो

जब बनती हो वीणापाणि
ज्ञान का दीप जलाती हो
हम जैसे भूले-भटकों को
मंजिल तक पहुँचाती हो

बन कर तुम अन्नपूर्णा माँ
भूखों का पेट भरती हो
पशु पक्षी और मानव जन में
कोई भेद ना करती हो

ममता का प्रतिशोध जब लेती
कालरात्रि बन जाती हो
थर थर काँपे देवता दानव
रौद्र रूप दिखलाती हो

उद्धार करना हो जब भक्तों का
स्वर्ग छोड़ चली आती हो
पतित पावनी हे माँ गंगे
बैकुण्‍ठ भी पहुँचाती हो

कोई परीक्षा लेवे मैया
ज्वाला बनकर दिखलाती हो
बादशाह भी नतमस्तक हो गए
सोने को भी झूठलाती हो

है कोई ढूँढता मंदिर मंदिर
पहाड़ों पर भी मिल जाती हो
सच्चे मन से कोई ढूँढे
अंतर्मन में मिल जाती हो

– आशीष कुमार
मोहनिया, कैमूर, बिहार

2 Likes · 103 Views
You may also like:
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
सृष्टि रचयिता यंत्र अभियंता हो आप
Chaudhary Sonal
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उदास
Swami Ganganiya
गीत - कौन चितेरा चंचल मन से
Shivkumar Bilagrami
“ जालंधर केंट टू अमृतसर ” ( यात्रा संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
*जेलों में जाते नेताजी 【हास्य-व्यंग्य गीतिका】*
Ravi Prakash
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
#खुद से बातें...
Seema 'Tu hai na'
शुभ धनतेरस
Dr Archana Gupta
क़लम से तलवार का काम
Shekhar Chandra Mitra
लिख दो ऐसा गीत प्रेम का, हर बाला राधा हो...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये किस धर्म के लोग है
gurudeenverma198
अन्तिम करवट
Prakash juyal 'मुकेश'
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*एक पुराना तन*
अनिल अहिरवार
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
उसे मलाल न हो
Dr fauzia Naseem shad
एकता
Aditya Raj
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन का मोह
AMRESH KUMAR VERMA
✍️पलभर का इश्क़✍️
'अशांत' शेखर
माता-पिता की जान है उसकी संतान
Umender kumar
✍️गलत बात है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
नवनिर्माण
विनोद सिल्ला
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
💐अर्थधर्मकाममोक्ष💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
फिर जीवन पर धिक्कार मुझे
Ravi Yadav
मुर्गासन,
Satish Srijan
Loading...