Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

तेरे बिना जीना है गँवारा //गीत/

वो जानाँ तेरे बिना जीना है गँवारा
आ जाऊँ दुनिया छोड़ तू कर दे इशारा
जीना -मरना है तेरी ही बाहों में
तू ही है हंसी खुशियों की बहारा
वो जानाँ….

तेरी दीवानी,मस्तानी हूँ तू न जाना
छुप-छुप के देखी राहें तूने कहाँ माना
क्यों आते नहीं बनके सावन मेरे आँगन
प्यासी जमीं हूँ ,तू है बादल आवारा
वो जानाँ…..

चुरा ले ग़म को , चुम ले लब को
दिल की बाते पास आके कह दो
न रहो खफा ,कर दो वफ़ा की बारिश
तड़प के दिल ने आज तुम्हें है पुकारा
वो जानाँ .,

कैसे जी रहे है तुम्हारे बिन आके पूछ ले जरा
तेरी यादों में हूँ ज़िंदा अब तक हूँ नहीं मरा
तुम्हारे बिन डूब न जाए मेरी ज़िंदगी की नईया
न कर इंतज़ार कोई पल की अब मुझे दे तू किनारा
वो जानाँ …

कवि :- दुष्यंत कुमार पटेल “चित्रांश”

Language: Hindi
Tag: गीत
224 Views
You may also like:
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार कर्ण
मेरे बिना तुम जी नहीं सकोगे
gurudeenverma198
246. "हमराही मेरे"
MSW Sunil SainiCENA
हमारा हौसला इश्क़ था - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
तुलसी
AMRESH KUMAR VERMA
अनपढ़ रखने की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
✍️KITCHEN✍️
'अशांत' शेखर
उम्मीद नही छोड़ते है ये बच्चे
Anamika Singh
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
गीत
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
बाल कविता हिन्दी वर्णमाला
Ram Krishan Rastogi
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुक्तक
Dr Archana Gupta
उसके और मेरे दरमियान
shabina. Naaz
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
पिता
Surabhi bharati
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
🌀🌺🌺कुछ साख़ बाक़ी रखना🌺🌺🌀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" भयंकर यात्रा "
DrLakshman Jha Parimal
*पहले प्रीति जगाओ (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बाबूजी
Kavita Chouhan
Loading...