Sep 25, 2016 · 1 min read

तेरी फ़िक्र क्यों करता दिल मेरा/मंदीप

तेरी फ़िक्र क्यों करता दिल मेरा/मंदीप

तेरी फ़िक्र क्यों करता दिल मेरा मुझे पता नही,
हर पल तेरा जिक्र क्यों करता दिल मेरा मुझे पता नही।

तुम को चाहने की आदत सी हो गई,
ये आदत अच्छी है या बुरी पता नही।

देखे जो तेरे संग जो सपने जीने के,
वो कभी पुरे होंगे या नही पता नही।

तुम हो तो में हूँ इस जहान में,
उस के बाद क्या होगा कुछ पता नही।

पीड़ चलने लगी तेरे नाम की मेरे गात में,
ये कब ठीक होगी या नही मुझे पता नही।

है इंतजार “मंदीप” को एक होने का,
कब हम एक होंगे या नही पता नही।

मंदीपसाई

197 Views
You may also like:
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
उत्साह एक प्रेरक है
Buddha Prakash
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एकाकीपन
Rekha Drolia
ग़ज़ल
Anis Shah
मैं मजदूर हूँ!
Anamika Singh
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
श्रृंगार
Alok Saxena
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...