Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।

आहटें तेरी यादों की, यूँ बेमक़सद सी चली आती हैं,
की नींदें आँखों में, अब बस बेवफ़ाई हीं लिख पाती हैं।
सुखे पत्तों की सिलवटों की, आवाज़ें जो कानों से टकराती हैं,
बहारें जो जा चुकीं, उनके एहसासों को जगाती हैं।
लुका-छुपी तो स्याह बादलों की अब भी हो जाती है,
पर चाँद की झलक को कबतक ये छुपा पाती हैं?
लकीरें हाथों में खुद की नुमाईशें तो बखूबी कराती हैं,
पर क़िस्मत की धोखेबाज़ी से, कहाँ ये बचा पातीं हैं?
ये आँधियाँ जो दबे पाँव, इस सोये शहर को सहलाती हैं,
तो कोरे संदेशों में, तेरी खोयी खुशबू को भर जाती हैं।
मदहोशियाँ, बेमतलब से दस्तकों की आस जगातीं हैं,
पर होश के छींटों से तो, वो मोहब्बत भी घबरा जाती हैं।
वादे साथ चलने के हीं, भीड़ में तन्हाई को बढाती हैं,
और अनजान चेहरों में तेरी एक झलक को तरसाती हैं।
हाँ, तस्वीरों में तुझे ढूढ़ने आँखें, बेशुमार रातों को जगाती हैं,
यूँ साँसें आज भी खुद को, उस एक पल में थमा पाती हैं।
इरादों की वो मिठास, किस्सों के पन्नों को यूँ पलटाती हैं,
की अधूरी उस कहानी को, जिन्दा सा बताती हैं।
गूंज मेरी, वादियों के दिलों को तो भर्राती हैं,
पर तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।

3 Likes · 2 Comments · 473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/25.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
शीर्षक - चाय
शीर्षक - चाय
Neeraj Agarwal
वो पुराने सुहाने दिन....
वो पुराने सुहाने दिन....
Santosh Soni
कृषक
कृषक
साहिल
वो खुशनसीब थे
वो खुशनसीब थे
Dheerja Sharma
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"हाशिये में पड़ी नारी"
Dr. Kishan tandon kranti
अभी ख़ुद से बाहर
अभी ख़ुद से बाहर
Dr fauzia Naseem shad
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बरक्कत
बरक्कत
Awadhesh Singh
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
Rap song 【5】
Rap song 【5】
Nishant prakhar
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
*सरिता में दिख रही भॅंवर है, फॅंसी हुई ज्यों नैया है (हिंदी
Ravi Prakash
तुम रूबरू भी
तुम रूबरू भी
हिमांशु Kulshrestha
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Apne yeh toh suna hi hoga ki hame bado ki respect karni chah
Divija Hitkari
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
सुख दुःख मनुष्य का मानस पुत्र।
लक्ष्मी सिंह
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
Loading...