Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

तेरी याद

लम्हा – लम्हा महक उठता है आसपास ,
जब भूली – बिसरी यादों में,
रौशन चिराग़ मिलते हैं ॥
तुम कहा हम कहा का इजहार बहता रहे,
दिलो मे बिती लम्हो की बयार चलती रहे,
कभी शरमा के उँगलियो मे पल्लू लपेटती रहे,
मंद-मंद होटो पर लरज के निसान बनते रहे,
कनखियो से नजर से दिदार करती रहे,
धिमे से लरजती -लरजती सुरमयी बोली
हंसी ने लबों पर अब आना छोड दिया ,
ख्‍बाबों ने सपनों में आना छोड दिया,
नहीं आती अब तो हिचकीया भी ,
शायद आपने भी याद करना छोड’ दिया,
आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये,
भूली – बिसरी यादों में,रौशन चिराग़ जलते रहे,।।कांत।।

Language: Hindi
365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
अपना गाँव
अपना गाँव
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दौड़ी जाती जिंदगी,
दौड़ी जाती जिंदगी,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-512💐
💐प्रेम कौतुक-512💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
gpoddarmkg
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"चालाकी"
Ekta chitrangini
देश भक्ति
देश भक्ति
Sidhartha Mishra
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
*चाकलेट बढ़ि‌या रही, लेकर बाजी मार (कुंडलिया)*
*चाकलेट बढ़ि‌या रही, लेकर बाजी मार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
“पल भर के दीदार का कोई अर्थ नहीं।
*Author प्रणय प्रभात*
Happy Father Day, Miss you Papa
Happy Father Day, Miss you Papa
संजय कुमार संजू
मेनाद
मेनाद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
गजल
गजल
जगदीश शर्मा सहज
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
जालिम
जालिम
Satish Srijan
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
दश्त में शह्र की बुनियाद नहीं रख सकता
Sarfaraz Ahmed Aasee
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ की करते हम भक्ति,  माँ कि शक्ति अपार
माँ की करते हम भक्ति, माँ कि शक्ति अपार
Anil chobisa
तितलियाँ
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
सामाजिक न्याय के प्रश्न
सामाजिक न्याय के प्रश्न
Shekhar Chandra Mitra
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
Loading...