Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

तेरी याद

लम्हा – लम्हा महक उठता है आसपास ,
जब भूली – बिसरी यादों में,
रौशन चिराग़ मिलते हैं ॥
तुम कहा हम कहा का इजहार बहता रहे,
दिलो मे बिती लम्हो की बयार चलती रहे,
कभी शरमा के उँगलियो मे पल्लू लपेटती रहे,
मंद-मंद होटो पर लरज के निसान बनते रहे,
कनखियो से नजर से दिदार करती रहे,
धिमे से लरजती -लरजती सुरमयी बोली
हंसी ने लबों पर अब आना छोड दिया ,
ख्‍बाबों ने सपनों में आना छोड दिया,
नहीं आती अब तो हिचकीया भी ,
शायद आपने भी याद करना छोड’ दिया,
आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये,
भूली – बिसरी यादों में,रौशन चिराग़ जलते रहे,।।कांत।।

Language: Hindi
Tag: कविता
257 Views
You may also like:
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपने मंजिल को पाऊँगा मैं
Utsav Kumar Aarya
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो...
Chaurasia Kundan
राह कोई ऐसी
Seema 'Tu hai na'
✍️मुतअस्सिर✍️
'अशांत' शेखर
जीवन उत्सव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पापा
Nitu Sah
बिहार बदली
Shekhar Chandra Mitra
नयी हैं कोंपले
surenderpal vaidya
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
ओस की बूँदें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
तेरा दीदार
Dr fauzia Naseem shad
खेलता ख़ुद आग से है
Shivkumar Bilagrami
गणपति वंदना
Dr Archana Gupta
पूछ रहा है मन का दर्पण
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
'संज्ञा'
पंकज कुमार कर्ण
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
प्यार करके।
Taj Mohammad
भ्रष्टाचार पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
ये दिल
shabina. Naaz
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...