Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 21, 2016 · 1 min read

तेरी याद

लम्हा – लम्हा महक उठता है आसपास ,
जब भूली – बिसरी यादों में,
रौशन चिराग़ मिलते हैं ॥
तुम कहा हम कहा का इजहार बहता रहे,
दिलो मे बिती लम्हो की बयार चलती रहे,
कभी शरमा के उँगलियो मे पल्लू लपेटती रहे,
मंद-मंद होटो पर लरज के निसान बनते रहे,
कनखियो से नजर से दिदार करती रहे,
धिमे से लरजती -लरजती सुरमयी बोली
हंसी ने लबों पर अब आना छोड दिया ,
ख्‍बाबों ने सपनों में आना छोड दिया,
नहीं आती अब तो हिचकीया भी ,
शायद आपने भी याद करना छोड’ दिया,
आज तेरी याद हम सीने से लगा कर रोये,
भूली – बिसरी यादों में,रौशन चिराग़ जलते रहे,।।कांत।।

181 Views
You may also like:
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
माई री [भाग२]
Anamika Singh
नव विहान: सकारात्मकता का दस्तावेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
*!* सोच नहीं कमजोर है तू *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
डरता हूं
dks.lhp
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पानी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
बुलबुला
मनोज शर्मा
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गंगा दशहरा
श्री रमण
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...