Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

!!!! तेरी फितरत ही है, बेचैन !!

इंसान की सोच का अब कुछ भरोसा नहीं,
वहाँ भागता है, जहाँ मिलना कुछ नहीं
हाथ पांव ऐसे मारता है जैसे हिरण की छलांग
और गिर के उठता नहीं, हाथी की तरह……..

मन को अपने कुछ पल के लिए
भगा रहा है, सब छोड़ घर सुख चैन
क्या कहूं तेरे मन की मैं अब यहाँ से
तेरे से तो तेरे घर रहने वाले हैं बेचैन……

फितरत को अपनी संभाल कर रख
कभी बुरे वक्त में आ जायेगी तेरे काम
देखता तो तू कहीं और है और करता कुछ और
दिमाग को अपने शांत रख , नहीं तो सदा रहेगा बेकाम …….

गहराई में सोच और समझ जरा मन लगा के
जिस तरफ तू बढ़ रहा, है कांटो का ताज है वहां पे
किस्मत में अगर लिखा हुआ तेरे तू नहीं रहेगा आबाद
इस ज़माने का क्या, पल भर में कर देंगे तुझ को बर्बाद ….

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
543 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
ज़िंदगी को
ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
जो दिल में उभरती है उसे, हम कागजों में उतार देते हैं !
जो दिल में उभरती है उसे, हम कागजों में उतार देते हैं !
DrLakshman Jha Parimal
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/75.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
रख धैर्य, हृदय पाषाण  करो।
रख धैर्य, हृदय पाषाण करो।
अभिनव अदम्य
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
दिल ये इज़हार कहां करता है
दिल ये इज़हार कहां करता है
Surinder blackpen
कविता
कविता
Rambali Mishra
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
" माटी की कहानी"
Pushpraj Anant
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
■ सार संक्षेप...
■ सार संक्षेप...
*प्रणय प्रभात*
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सबसे प्यारा सबसे न्यारा मेरा हिंदुस्तान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Your Secret Admirer
Your Secret Admirer
Vedha Singh
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
मत गमों से डर तू इनका साथ कर।
सत्य कुमार प्रेमी
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
Ravi Prakash
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
मैं जानता हूं नफरतों का आलम क्या होगा
VINOD CHAUHAN
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पहचान
पहचान
Dr.Priya Soni Khare
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
Loading...