Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

तेरी इक मुस्कराहट

तेरी इक मुस्कराहट को देख कर,
जीने की आस चहक उठती है,
वरना तो क्या कहें तुम से, सीना
भरा पड़ा है मेरा, गमो के समुंदर से !!

तेरे मीठे बोलों से खिलती है, मेरे
घर – आँगन के गुलशन कि बगिया,
तुझे कोई गम भी हो जाये तो
दर्द हर दम उठता है,रोज मेरे सीने में !!

तेरा मुस्कुराता चेहरा देखने को मैं
पल पल , हर लम्हा बेताब रहता हूँ,
इक कसक सी दस्तक दे जाती है,
जब न देख पता हूँ, तेरा मुस्कुराता चेहरा !!

तून शोभा है, मेरे आने वाले कल की,
तुझ से ही है, यह संसार मेरा सारा,
आशा करता हूँ, खुश रहे तून सदा मेरे पास,
क्या रखूँ, कल क्या होगा, ऐसी में आस !!

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
अद्वितीय संवाद
अद्वितीय संवाद
Monika Verma
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
कहाँ लिखूँ कैसे लिखूँ ,
कहाँ लिखूँ कैसे लिखूँ ,
sushil sarna
3024.*पूर्णिका*
3024.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
"आशा" की चौपाइयां
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नववर्ष-अभिनंदन
नववर्ष-अभिनंदन
Kanchan Khanna
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
चुनाव के दौर से (नील पदम् के दोहे)
चुनाव के दौर से (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
"मिट्टी की उल्फत में"
Dr. Kishan tandon kranti
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*कैसे बारिश आती (बाल कविता)*
*कैसे बारिश आती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कितने ही गठबंधन बनाओ
कितने ही गठबंधन बनाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
प्यार चाहा था पा लिया मैंने।
सत्य कुमार प्रेमी
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
हर हालात में अपने जुबाँ पर, रहता वन्देमातरम् .... !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
Manisha Manjari
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बालों की सफेदी देखी तो ख्याल आया,
बालों की सफेदी देखी तो ख्याल आया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ बड़ा सवाल ■
■ बड़ा सवाल ■
*प्रणय प्रभात*
Loading...