Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Dec 2022 · 1 min read

तेरा नूर

हुजूम उमड़ा शहर में एक दफा,
पता चला वहां नूर है बिखरा हुआ।
जब देखा नूर को मैने गौर से इक नज़र,
तो पाया मैं तो क्या दीवाना है उसका पूरा शहर।
उसे पाने की ख्वाहिश में खोया मैने सारा चैन,
तोड़ दिए सब रिश्ते नाते, उसे पाने की ललक में
रहा मैं बहुत बेचैन।
कुछ रिश्तों ने ताने दिए, कुछ ने दीं धमकियां
किसी ने मुझे सहारा दिया तो किसी ने दीं सिसकियां
हुआ इत्तेफाक ऐसा कि मुझ पर हुआ एहसान तेरा
मांग लिया तूने मुझे खुद पूरा हुआ अरमान मेरा।

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेजुबान तस्वीर
बेजुबान तस्वीर
Neelam Sharma
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
STAY SINGLE
STAY SINGLE
Saransh Singh 'Priyam'
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
"चिन्तन का कोना"
Dr. Kishan tandon kranti
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
किस बात का गुमान है
किस बात का गुमान है
भरत कुमार सोलंकी
मनांतर🙏
मनांतर🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फुर्सत नहीं है
फुर्सत नहीं है
Dr. Rajeev Jain
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
शब की ख़ामोशी ने बयां कर दिया है बहुत,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
58....
58....
sushil yadav
3288.*पूर्णिका*
3288.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
Ravi Prakash
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
मुझको तो घर जाना है
मुझको तो घर जाना है
Karuna Goswami
*मन के मीत किधर है*
*मन के मीत किधर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
"बचपन"
Tanveer Chouhan
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
"दिल का हाल सुने दिल वाला"
Pushpraj Anant
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
😊कमाल है😊
😊कमाल है😊
*प्रणय प्रभात*
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
Loading...