Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 2 min read

तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा

तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा

आरंभ था नव प्रसंग का, परिवर्तन होने वाला था,
पाला पोसा जिस परिवेश में, उन संस्कारों का इंतिहान होने वाला था।

साथ निभाना, सब की खुशियों का ख्याल रखना,
भोर फटे, शाम ढले, कानों में रस घोला जाता था।

हुनर की आजमाइश होने वाली है, डराया जाता था,
खुशियां दस्तक देने वाले हैं, बहलाया जाता था।

एक दूजे का हर पल अब से साथ होगा,
ऐसे साथ का पल-पल सम्मान होगा।

खुद से सवाल पूछा, क्या उनको भी यही एहसास होगा?
हमारा हर दिन जन्नत और रिश्ता बड़ा खास होगा?

जिम्मेदारी में हिस्सेदारी होगी, ईमानदारी भी भरपूर होगी,
हर गुजरते दिन के साथ समझदारी भी चरम पर होगी।

नवजीवन को चलाने वाली असाधारण जोड़ी होगी,
इस रिश्ते को सर्वगुण संपन्नता की मोहर लगानी होगी।

जब तेरा नाम मेरे नाम के साथ जुड़ जाता है,
मदहोश करने वाला संगीत भी फीका पड़ जाता है।

जब परवाह करे कोई हमारी हम से भी ज्यादा,
एक लम्हा भी बड़ा जश्न और सफ़र बहुत ही हसीन हो जाता है।

दिल हार जाने के लिए इश्क की टिकट पर चुनाव लड़े जाते हैं,
कसमें खानी होती हैं ,वादे निभाए जाते हैं।

पक्ष में हो या फिर हो विपक्ष में, मत विवेक से ही दिया जाता है,
कई दफा मोन भाषण देकर भी पवित्र रिश्ता जीता जाता है।

सच की ताप में बारीकियों से मसले सुलझाए जाते हैं,
अहंकार को दरकिनार कर, घर संसार बचाए जाते हैं।

खुद को किसी कोने में समेटे, रिश्तो की गहराई को समझा जाता है,
अश्कों को थामें, गम छुपाए, उज्जवल भविष्य को सजाया जाता है।

हर मुश्किल घड़ी में एक दूसरे का साथ निभाया जाता है,
निश्चय कर, परिचर्चा कर, बड़े मुद्दे पर निर्णय लिया जाता है।

लोभ, क्रोध, द्वेष को हवन कुंड में झोंका जाता है,
आजादी और बंदिशों के बीच नया आशियां बनाया जाता है।

त्याग, समर्पण से ही रिश्ते की कच्ची डोर को संभाला जाता है
और फिर प्यार से परिपूर्ण पतंग को आसमान में उड़ाया जाता है।।

#seematuhaina

5 Likes · 1 Comment · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आवाजें
आवाजें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
" नाराज़गी " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#साहित्यपीडिया
#साहित्यपीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
एक तरफ तो तुम
एक तरफ तो तुम
Dr Manju Saini
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
"नहीं देखने हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवान
भगवान
Anil chobisa
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
💐इश्क़ में फ़क़्र होना भी शर्त है💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/134.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
जीवन !
जीवन !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
आजकल का प्राणी कितना विचित्र है,
Divya kumari
Loading...