Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 2 min read

तू है लबड़ा / MUSAFIR BAITHA

दूर की रिश्तेदारी में गया था, तब मैं मैट्रिक पास कर सिविल इंजीनियरी डिप्लोमा के प्रथम वर्ष का छात्र था और मेजबान घर की बाला एक साल पीछे प्रवेशिका में.

उसके एक रिश्तेदार द्वारा एक काम से बुलाए जाने पर मैं अपने कॉलेज हॉस्टल से उस घर में गया था।

और, जैसा कि आमतौर पर होता है, हम दोनों के बीच में किशोर वय जनित एक स्वाभाविक दैहिक आकर्षण संचारित हुआ था, और पहले उस बाला की ओर से ही इस खिंचाव का इजहार हुआ।

घर में एकांत पा मुझे लंच खिलाते हुए उसने मेरे सामने एक पन्ने में कुछ अंग्रेजी अनुवाद के लिए सवाल रखवा दिए अपने छोटे भाई की मार्फ़त. उनमें से कुछ ये थे जो उसके जानते तनिक कठिन थे :

१) घोड़ा सड़क पर अड़ कर भड़क गया.
२) गया गया गया तो गया का गया ही रह गया.
३) छपरा के छप्पू के छप्पर पर छः दिनों से छः छुछुन्दर छुछुआ रहे थे.
४) चन्दन की चाची ने चांदी की चम्मच से उसे चटनी चटाई.

मैंने अपना अनुवाद उपलब्ध करवाई गयी कॉपी के हवाले कर दिया. ये सवाल उन दिनों इलाके के गांव–देहात में वायरल टाइप से चलन में थे. मैं पास हो गया था.

पास होने का एक छुपा इशारा यह कि, उस रात के भोजन में उसने मेरे लाख ना-ना करने के बावजूद रोटियां-सब्जी बाद में भी थाली में बतौर परसन कनखियों से बात करते हुए मुस्कुराहट भरकर रख दी थी, अपने हाथ थाली पर ’ना’ में फैलाने के बावजूद भी मेरे हाथ हटा कर. और, वह छुअन कातिल थी साथ ही उसकी कुछ अदाएं भी!!!

मेरे पास होने का सुबूत यह था कि उस बाला से मेरी नोट बुक के एक कोर में लिखित कॉमेंट मिला था-मुसाफिर… तू है लबड़ा!!! और, यह मैं हॉस्टल में वापस लौटने के बाद कॉपी के कोर में स्याही जैसे लगे होने को देखकर चेक करने पर जान पाया था।

Language: Hindi
181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
"दोस्ती क्या है?"
Pushpraj Anant
मेरे आदर्श मेरे पिता
मेरे आदर्श मेरे पिता
Dr. Man Mohan Krishna
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
सत्य की खोज
सत्य की खोज
SHAMA PARVEEN
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
जिज्ञासा
जिज्ञासा
Neeraj Agarwal
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
रामचरितमानस दर्शन : एक पठनीय समीक्षात्मक पुस्तक
श्रीकृष्ण शुक्ल
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
😢विडम्बना😢
😢विडम्बना😢
*प्रणय प्रभात*
कुछ नही मिलता आसानी से,
कुछ नही मिलता आसानी से,
manjula chauhan
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
दिल ये तो जानता हैं गुनाहगार कौन हैं,
Vishal babu (vishu)
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
परीलोक से आई हो 🙏
परीलोक से आई हो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
कवि एवं वासंतिक ऋतु छवि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मरीचिका सी जिन्दगी,
मरीचिका सी जिन्दगी,
sushil sarna
नवगीत - बुधनी
नवगीत - बुधनी
Mahendra Narayan
Tu chahe to mai muskurau
Tu chahe to mai muskurau
HEBA
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कवि को क्या लेना देना है !
कवि को क्या लेना देना है !
Ramswaroop Dinkar
3319.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3319.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...