Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

तू ही घर, शहर है मेरा

मुझे क्या पता वक़्त का
तू ही हर पहर है मेरा

ना अता ना पता है तेरा
तू ही घर, शहर है मेरा

153 Views
You may also like:
काल के चक्रों ने भी, ऐसे यथार्थ दिखाए हैं।
Manisha Manjari
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
जस का तस / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
लेखनी
लक्ष्मी सिंह
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
*कानाफूसी (लघुकथा)*
Ravi Prakash
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
सरकारी नौकर
Dr Meenu Poonia
✍️माटी का है मनुष्य✍️
'अशांत' शेखर
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
गुजरात माडल ध्वस्त
Shekhar Chandra Mitra
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
दोहावली-रूप का दंभ
asha0963
तेरे होने में क्या??
Manoj Kumar
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
खुदा चाहे तो।
Taj Mohammad
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
खामोशी
Anamika Singh
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शहीद की बहन और राखी
DESH RAJ
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
⭐⭐सादगी बहुत अच्छी लगी तुम्हारी⭐⭐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*** घर के आंगन की फुलवारी ***
Swami Ganganiya
Loading...