Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

तू मेरे मन मधुबन बन जा

मेरे प्रियतम तू मेरे मन मधुबन बन जा
भीगती रहूँ मैं तू ऐसा सावन बन जा

आ बसा लू तुझे अपनी साँसो में
मेरे दिल की तू धड़कन बन जा

तू मेरे साजन मेरे दिलवर मेरी जान है
आ मेरी चुडियोँ की खन-खन बन जा

तू ही मेरी दुनिया बस तुम्हें ही चाहा
आ मेरी पायल की छन-छन बन जा

तू मेरे लिये रब है ,मै तेरी पूजारिन हूँ
सतरंगी सपने सजाऊँ तूअन्तर्मन बन जा

कवि :दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

221 Views
You may also like:
दीपोत्सव की शुभकामनाएं
Saraswati Bajpai
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
कुकिंग शुकिंग
Kaur Surinder
संगीत
Surjeet Kumar
✍️रूह की जुबानी
'अशांत' शेखर
बरसात
Ashwani Kumar Jaiswal
शस्त्र उठाना होगा
वीर कुमार जैन 'अकेला'
दोस्ती -ईश्वर का रूप
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप तो आप ही है
gurudeenverma198
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
शब्दों के अर्थ
सूर्यकांत द्विवेदी
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
'संज्ञा'
पंकज कुमार कर्ण
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
*प्राणायाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
यह जिन्दगी
Anamika Singh
सवाल कोई नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
*"खुद को तलाशिये"*
Shashi kala vyas
Red Rose
Buddha Prakash
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
Shiva Awasthi
Corporate Mantra of Politics
AJAY AMITABH SUMAN
बाल कविता: तितली चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
मुक्तक व दोहा
अरविन्द व्यास
कहते हैं न....
Varun Singh Gautam
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
नया उभार
Shekhar Chandra Mitra
Loading...