Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तू मेरे मन मधुबन बन जा

मेरे प्रियतम तू मेरे मन मधुबन बन जा
भीगती रहूँ मैं तू ऐसा सावन बन जा

आ बसा लू तुझे अपनी साँसो में
मेरे दिल की तू धड़कन बन जा

तू मेरे साजन मेरे दिलवर मेरी जान है
आ मेरी चुडियोँ की खन-खन बन जा

तू ही मेरी दुनिया बस तुम्हें ही चाहा
आ मेरी पायल की छन-छन बन जा

तू मेरे लिये रब है ,मै तेरी पूजारिन हूँ
सतरंगी सपने सजाऊँ तूअन्तर्मन बन जा

कवि :दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”

157 Views
You may also like:
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
दहेज़
आकाश महेशपुरी
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार "कर्ण"
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भूल जा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
✍️जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
"अशांत" शेखर
ऐ वतन!
Anamika Singh
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
Destined To See A Totally Different Sight
Manisha Manjari
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
एकाकीपन
Rekha Drolia
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
नर्सिंग दिवस विशेष
हरीश सुवासिया
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
पावन पवित्र धाम....
Dr. Alpa H. Amin
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
Loading...