Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता

तू जो कहती प्यार से मैं खुशी खुशी कर जाता
तू भी करती प्यार तो मैं हर एक से लड़ जाता
जो पता होता तू खुश है मेरे दूर जाने से
तू कह देती एक बार, मैं खुशी खुशी मर जाता

228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देखिए आप आप सा हूँ मैं
देखिए आप आप सा हूँ मैं
Anis Shah
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
तू ही मेरी चॉकलेट, तू प्यार मेरा विश्वास। तुमसे ही जज्बात का हर रिश्तो का एहसास। तुझसे है हर आरजू तुझ से सारी आस।। सगीर मेरी वो धरती है मैं उसका एहसास।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
नास्तिक
नास्तिक
ओंकार मिश्र
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
World News
आशा की किरण
आशा की किरण
Nanki Patre
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
गीत
गीत
Shweta Soni
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
होली
होली
नेताम आर सी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माता सिद्धि-प्रदायिनी ,लिए सौम्य मुस्कान
माता सिद्धि-प्रदायिनी ,लिए सौम्य मुस्कान
Ravi Prakash
"परिवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
काम-क्रोध-मद-मोह को, कब त्यागे इंसान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
कम साधन में साधते, बड़े-बड़े जो काज।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
VINOD CHAUHAN
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
जाती नहीं है क्यों, तेरी याद दिल से
gurudeenverma198
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
3423⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
राम मंदिर
राम मंदिर
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
Loading...