Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,

तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
हमारी रूह भी सुकून बहुत पाती है।
खिले गुलाब सा हो जाता ये मलूल ज़ेहन,
गर्द ए राह पर फुहार बरस जाती है।

सतीश सृजन

1 Like · 375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
■ आज का दोहा...।
■ आज का दोहा...।
*प्रणय प्रभात*
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मकसद ......!
मकसद ......!
Sangeeta Beniwal
मजदूर
मजदूर
Namita Gupta
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
उनसे कहना वो मेरे ख्वाब में आते क्यों हैं।
Phool gufran
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
मुसीबतों को भी खुद पर नाज था,
manjula chauhan
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
कोई काम हो तो बताना,पर जरूरत पर बहाना
पूर्वार्थ
*तरह-तरह की ठगी (हास्य व्यंग्य)*
*तरह-तरह की ठगी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
मुराद
मुराद
Mamta Singh Devaa
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
मुबारक़ हो तुम्हें ये दिन सुहाना
मुबारक़ हो तुम्हें ये दिन सुहाना
Monika Arora
"आओ उड़ चलें"
Dr. Kishan tandon kranti
उसे तो आता है
उसे तो आता है
Manju sagar
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
भैतिक सुखों का आनन्द लीजिए,
Satish Srijan
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू नर नहीं नारायण है
तू नर नहीं नारायण है
Dr. Upasana Pandey
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...