Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2023 · 1 min read

…….*तु खुदकी खोज में निकल* ……

…….*तु खुदकी खोज में निकल* ……
तु खुदकी खोज में निकल,
तुझे किसकी तलाश हैं,
तु निराशा के बादलोसे आशा का सावन है ।।
तु कोहिनूर सा हिरा है,
तुझे क्यों सितारो की तलाश है।
तु खुद हमराही है, हमसफर क्यो तलाश है ।
तु खुद सावन सा निर्मल है.
तुझे क्यू गलतियों पर निराशा है
आशा का पेड हैं ।
तु निराशा को जड ‘से उखाड़.
तु हस्ता हुआ बगीचा हू,
तु गुजरता हुआ रास्ता है
तु आसमान की उड़ान है
तु खुद एक पहचान.
तु खुदकी खोज में निकल।
नौशाबा सुरीया
महाराष्ट्र सिंदी (रे)

2 Likes · 345 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल का गुस्सा
दिल का गुस्सा
Madhu Shah
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
माना की आग नहीं थी,फेरे नहीं थे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जो बालक मातृभाषा को  सही से सीख  लेते हैं ! वही अपने समाजों
जो बालक मातृभाषा को सही से सीख लेते हैं ! वही अपने समाजों
DrLakshman Jha Parimal
- शेखर सिंह
- शेखर सिंह
शेखर सिंह
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
"अश्कों की स्याही"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
उनका सम्मान तब बढ़ जाता है जब
Sonam Puneet Dubey
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
हार भी स्वीकार हो
हार भी स्वीकार हो
Dr fauzia Naseem shad
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
पढ़ाई -लिखाई एक स्त्री के जीवन का वह श्रृंगार है,
Aarti sirsat
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
* पहचान की *
* पहचान की *
surenderpal vaidya
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
8. *माँ*
8. *माँ*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
3297.*पूर्णिका*
3297.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
Loading...