Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2022 · 2 min read

तुलसी दास जी के

संत कवि तुलसीदास जी प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त थे । राम उनके लिए साक्षात् ब्रह्म के अवतार थे और सीता आदि शक्ति ।
उनकी भक्ति में ‘सियाराम मय जगत’ के अतिरिक्त और कुछ नहीं था ।
दास भक्ति की परंपरा में वे अद्वितीय हैं ।
लेकिन समस्त ग्रंथों में दार्शनिक झाँकियाँ और युक्ति-युक्तपूर्ण भक्ति का मंडन भरा है ।
तुलसीदास जी की समग्र दृष्टि में ज्ञान,भक्ति, कर्म, दर्शन एवं
वैराग्य का सामंजस्य पूर्ण रूप से समाया ‌
हुआ है।
इसीकारण वे राम को समष्टि रूप में लोकनायक का आदर्श रूप दे सके हैं । राम का प्रत्येक संभव रूप मानव जाति के लिए आज भी प्रेरणास्रोत है ।
राम ईश्वर रूप होते हुए भी मर्यादा पुरुषोत्तम हैं और लोक संग्रह की भावना के प्रतिनिधि हैं ।
तुलसीदास जी के लिए सगुण और निर्गुण व्यर्थ हैं । उनके ही
शब्दों में-:

” जो गुन रहित सगुन सोइ कैसे।
जनु हिम उपल विलग नहि जैसे ।। ”

उनके नाम और रूप भी ईश्वर तत्व की दो उपाधियाँ मात्र हैं । फिर भी नाम ‘राम’ से बड़ा है ।

” ब्रह्म राम ते नाम बड़, बरदायक बर दानि ।
रामायण शतकोटि महँ, लिय महेश जिय जानि ।।”

तुलसीदास की पहली दृष्टि से मानव जीवन का कोई भी व्यवहारिक पक्ष नहीं छूट पाया है ।

पारिवारिक, सामाजिक,धार्मिक एवं राज-नैतिक जीवन की विविध जटिल परिस्थि-तियों एवं मानसिक व्यापारों का चित्रण उनके ग्रंथों में भरा पड़ा है ।

तुलसी वाह्य एवं अंतर्जगत के सफल कवि हैं । तुलसी के राम करुणानिधि हैं । इसलिए भक्त की पुकार मात्र से उसे क्षमा करना उनकी बान है । राम का नियम एक मात्र समर्पण ही प्रथम् एवं अंतिम कर्तव्य है । राम बिना हेतु करुणागार हैं । जैसे-

” रहति न प्रभु चित चूक किए की ।
करत सुरति सय बार हिए की ।
सनमुख होइ जीव मोहि जबहीं ।
जन्म कोटि अघ नासहिं तबहीं ।। ”

अत: उपरोक्त समस्त भाव, महाकवि तुलसीदास जी के ग्रंथों में भरे पड़े हैं । जो सिद्ध करते हैं कि वह प्रभु राम के दास्य भाव के पोषक कवि हैं ।

‌‌ शिवकुमार बर्मन ✍️

6 Likes · 6 Comments · 96 Views
You may also like:
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
"মিত্র"
DrLakshman Jha Parimal
स्वप्न पखेरू
Saraswati Bajpai
भारतीय लोकतंत्र की मुर्मू, एक जीवंत कहानी हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसे कह दूँ
Dr fauzia Naseem shad
किताब की ताक़त
Shekhar Chandra Mitra
*इतने दीपक चहुँ ओर जलें(मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐💐तुम अपना ख़्याल रखना💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
वतन की बात
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
बिंदु छंद "राम कृपा"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
आईना
KAPOOR IQABAL
■ लोकतंत्र या ढोकतंत्र?
*Author प्रणय प्रभात*
✍️हद ने दूरियां बदली✍️
'अशांत' शेखर
"घास वाला टिब्बा"
Dr Meenu Poonia
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
radhakishan Mundhra
हट जा हट जा भाल से रेखा
सूर्यकांत द्विवेदी
एकता
Aditya Raj
★बदला★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ਚੇਤੇ ਆਉਂਦੇ ਲੋਕ
Kaur Surinder
जिन्दगी से क्या मिला
Anamika Singh
तकदीर की लकीरें।
Taj Mohammad
* तिस लाग री *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
Loading...