Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2023 · 1 min read

*तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे*

तुलसी तुम्हें प्रणाम : कुछ दोहे
_________________________
1
जब-जब कविता ने लिया, चौपाई का नाम
मतलब इसका एक है, तुलसी के प्रभु राम
2
रामचरितमानस लिखा, लिखी कथा अभिराम
चौपाई के तुम शिखर, तुलसी तुम्हें प्रणाम
3
गीत-गजल सब रह गए, पीछे खड़े तमाम
चौपाई सज-धज चली, लेकर उर में राम
4
धन्य कलम वह जानिए, लिखती जो हरिनाम
वंदन सौ तुलसी तुम्हें, लिखा एक बस राम
5
चौपाई में भर गए, रामनाम की श्वास
कविकुलगुरु तुम धन्य हो, कविवर तुलसीदास
6
मानस में जीवंत हैं, संस्कृति के परिवेश
बीते वर्ष सहस्त्र पर, वही पुरातन देश
7
साड़ी पहने सिय चलीं, हाथों में जयमाल
दृश्य हजारों साल से, जीवित हैं हर साल
8
अंतर के सुख के लिए, गाते तुलसीदास
कलम लिए हैं हाथ में, मन श्री हरि के पास
9
तुलसी ने मानस लिखा, धन्यवाद सौ बार
रामकथा मंदाकिनी, करती बेड़ा पार
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

831 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
3098.*पूर्णिका*
3098.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क़ और इंकलाब
इश्क़ और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
मेरा शरीर और मैं
मेरा शरीर और मैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
Satish Srijan
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
तारो की चमक ही चाँद की खूबसूरती बढ़ाती है,
Ranjeet kumar patre
जनक देश है महान
जनक देश है महान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
एक दिन सूखे पत्तों की मानिंद
पूर्वार्थ
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
स्त्री हूं केवल सम्मान चाहिए
Sonam Puneet Dubey
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रवाह
प्रवाह
Lovi Mishra
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
क्या मालूम तुझे मेरे हिस्से में तेरा ही प्यार है,
क्या मालूम तुझे मेरे हिस्से में तेरा ही प्यार है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बुंदेली चौकड़िया-पानी
बुंदेली चौकड़िया-पानी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
"नींद से जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...