Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

तुम हमें अब आधे अधूरे से लगते हो।

जानें क्यूं तुम हमें अब आधे अधूरे से लगते हो।
आजकल तुम किसी और के खयालों में रहते हो।।1।।

यूं मजबूरी की चाहत तुम ना दिखाओ हमको।
तुम दिल से किसी और से ही मोहब्बत करते हो।।2।।

हम चाहते है तुम्हें और हमेशा ही चाहते रहेंगे।
पर तुम बन कर फूल किसी और में महकते हो।।3।।

ये मोहब्बत कहां सबकी ही मुकम्मल होती है।
तुम वक्त की तरह आकर अक्सर ही गुजरते हो।।4।।

मुसाफिर बनके हर डगर पर तुम्हें ही ढूंढते हैं।
पर हमको वो राह ना मिलती है जिस पर तुम चलते हो।।5।।

आज मिल गए हो तुम तो चाहत दिखा रहे हो।
चंद अल्फाज़ कहके तुम सदा ही झूठी उम्मीद देते हो।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
कुछ किताबें और
कुछ किताबें और
Shweta Soni
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
कवर नयी है किताब वही पुराना है।
Manoj Mahato
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राम नाम  हिय राख के, लायें मन विश्वास।
राम नाम हिय राख के, लायें मन विश्वास।
Vijay kumar Pandey
पुष्प और तितलियाँ
पुष्प और तितलियाँ
Ritu Asooja
"अकेलापन और यादें "
Pushpraj Anant
क्यों नहीं आ रहे हो
क्यों नहीं आ रहे हो
surenderpal vaidya
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
विवाह का आधार अगर प्रेम न हो तो वह देह का विक्रय है ~ प्रेमच
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
नृत्य दिवस विशेष (दोहे)
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दिल की गुज़ारिश
दिल की गुज़ारिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
■ दिवस विशेष तो विचार भी विशेष।
*प्रणय प्रभात*
"विदूषक"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
उजाले अपनी आंखों में इस क़दर महफूज़ रखना,
उजाले अपनी आंखों में इस क़दर महफूज़ रखना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अश्रु से भरी आंँखें
अश्रु से भरी आंँखें
डॉ माधवी मिश्रा 'शुचि'
जीवन
जीवन
Monika Verma
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
Loading...