Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।

तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
RJ Anand Prajapati

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
आप चाहे किसी भी धर्म को मानते हों, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता
Jogendar singh
3282.*पूर्णिका*
3282.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*लम्हा  प्यारा सा पल में  गुजर जाएगा*
*लम्हा प्यारा सा पल में गुजर जाएगा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
पुरुष_विशेष
पुरुष_विशेष
पूर्वार्थ
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
बददुआ देना मेरा काम नहीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
عظمت رسول کی
عظمت رسول کی
अरशद रसूल बदायूंनी
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहादुर बेटियाँ
बहादुर बेटियाँ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
भूमकाल के महानायक
भूमकाल के महानायक
Dr. Kishan tandon kranti
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...